आरबीआई रियल्टी उद्योग को लोन देने पर कर रहा विचार

अगर आरबीआई बैंकों को एनपीए या एसएमए खातों के टैग को अस्थायी रूप से हटाने के लिए एकमुश्त रोलओवर रियल्टी ऋणों की अनुमति देता है, तो यह उन परियोजनाओं के लिए मामले के आधार पर किया जाएगा जो एक उन्नत चरण में हैं, लेकिन पुनर्भुगतान के संकट के कारण रुकी हुई हैं।

Written by: November 27, 2019 1:59 pm

नई दिल्ली। रियल एस्टेट कंपनियों को एनपीए टैग के बिना बाधा रहित फंडिंग में सहयोग करने व अधूरे प्रोजेक्ट्स को पूरा करने में मदद करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा वित्त मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय के उस प्रस्तावों पर विचार करने की संभावना है, जिसमें बैंकों को कंपनियों को डिफॉल्ट व स्पेशल मेंशन अकाउंट (एसएमए) के रूप में वर्गीकृत करने का फैसला लेने की बात कही गई है।

realty

अगर आरबीआई बैंकों को एनपीए या एसएमए खातों के टैग को अस्थायी रूप से हटाने के लिए एकमुश्त रोलओवर रियल्टी ऋणों की अनुमति देता है, तो यह उन परियोजनाओं के लिए मामले के आधार पर किया जाएगा जो एक उन्नत चरण में हैं, लेकिन पुनर्भुगतान के संकट के कारण रुकी हुई हैं।

rbi
सूत्रों ने कहा कि यह पूरे उद्योग के लिए नहीं है, बल्कि अच्छी स्थिति वाली परियोजनाओं के लिए है, जिस पर आरबीआई द्वारा अधिकृत किए जाने के बाद बैंक वाणिज्यिक निर्णय लेंगे।