अखिलेश यादव

यूपी में समाजवादी पार्टी अब नई राह पकड़ती नजर आ रही है। वोट की खातिर सपा की ओर से अब दलितों को लुभाने की कोशिश शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी पहली बार बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस बड़े पैमाने पर मनाएगी।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने पांच बार विधायक रह चुके राम प्रसाद को अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण पार्टी से निकाल दिया है।

उत्तर प्रदेश के खनन घोटाले में ईडी ने 11 अफसरों पर केस दर्ज किया है। सीबीआई पहले भी इस मामले कई अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कर छापेमारी कर चुकी है।

दिसंबर, 1992 में विवादित ढांचा विध्वंस करने के बाद से मुसलमानों के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अछूत हो गई थी। समाजवादी पार्टी (सपा), कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने इसका भरपूर लाभ उठाया, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मुस्लिमों ने फैसले को कुबूल कर लिया, दोनों ने गलबहियां भी कीं। इससे विपक्ष के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है।

यूपी में 11 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी ने समाजवादी पार्टी से अलग होकर ताल ठोका था, लेकिन हालत ये हुई कि 6 सीटों पर बसपा की जमानत जब्त हो गई।

इस बार चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों में से भाजपा, बसपा, कांग्रेस, सपा, भाकपा, माकपा ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने इन 11 में से नौ सीटें जीती थीं।

राजनीतिक विश्लेषक रतनमणि लाल का कहना है कि इस बार ऐसा विपक्षी दलों ने अपने चुनाव प्रचार को उतनी गंभीरता से आगे नहीं बढ़ाया है। इस कारण इनका प्रचार उतना जोर नहीं पकड़ पाया है।

अखिलेश ने यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, "प्रदेश में धड़ाधड़ फर्जी एनकाउंटर हो रहे हैं। लोगों को न्याय नहीं मिल पा रहा है। यह सरकार रामराज्य की बात करती है, जबकि यहां रामराज्य नहीं, नाथूराम गोडसे वाला राज्य चल रहा है।"

पुलिस ने नाहिद हसन के खिलाफ 4 मामलों में गैर जमानती वारंट हासिल किया है। उनकी धरपकड़ के लिए कैराना से लेकर लखनऊ व इलाहाबाद तक टीमें सक्रिय हैं। पुलिस ने 11 टीमें लगा रखी हैं।

उत्तर प्रदेश के विधानसभा उपचुनावों को लेकर सभी पार्टियों ने तैयारियां तेज कर दी हैं। इसी क्रम में रविवार को समाजवादी पार्टी ने दस प्रत्याशियों के नाम घोषित किए हैं।