अजीत डोभाल

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) बुधवार को अचानक काबुल (Kabul) पहुंचे। वो दो दिन के काबुल दौरे पर हैं। उनके साथ उच्चस्तारीय प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद है। डोभाल ने अपने काबुल दौरे के दौरान अफगानिस्तान के राष्ट्रपति एशरफ गनी समेत टॉप लीडर्स के साथ वहां के हालात जानें।

Ajit Doval: भारत के सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) शुक्रवार से दो दिन के श्रीलंका (Sri Lanka) दौरे पर है। वो कोलंबो (Colombo) पहुंचे गए हैं। शुक्रवार से उच्च स्तरीय क्षेत्रीय समुद्री संवाद शुरु हो रहा है। जिसमें डोभाल भाग लेंगे।

Ajit Doval: विजयादशमी (Vijayadashami) के पावन अवसर पर परमार्थ निकेतन (Paramarth Niketan) के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती (Swami Chidanand Saraswati) ने देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुआ कहा कि दशहरा शौर्य से शान्ति की ओर बढ़ने का पर्व है।

NSA of India: अपनी यात्रा के पहले दिन अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने सपरिवार परमार्थ निकेतन ऋषिकेश (Rishikesh) में गंगा दर्शन किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती और डा. साध्वी भगवती सरस्वती द्वारा दुर्गापूजा के अवसर पर किए गए हवन में भी वह श्रद्धापूर्वक सम्मिलित हुए।

Ajit Doval: विजयादशमी (Vijayadashami) के पावन अवसर पर अजीत डोभाल (Ajit Doval) और उनकी पत्नी ने परमार्थ निकेतन (Parmarth Niketan) के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती (Swami Chidanand Saraswati) के आध्यात्मिक गतिविधियों में शामिल हुए।

शनिवार को सुरक्षा एजेंसियों से जम्मू और कश्मीर में नियंत्रण रेखा (LoC) पर घुसपैठ रोधी ग्रिड को और मजबूत करने के लिए कहा है. एक उच्च-स्तरीय सुरक्षा बैठक में, एनएसए डोभाल ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ अभियान की समीक्षा की।

मंगलवार की रात से बुधवार की सुबह तक मरकज को खाली कराने का ऑपरेशन चलाया गया। हालांकि इससे पहले मरकज को खाली कराने को लेकर दिल्ली पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां मौके पर गईं तो निजामुद्दीन मरकज के प्रमुख मौलाना साद ने बंगालीवाली मस्जिद को खाली करने से मना कर दिया था।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल तो मंगलवार की पूरी रात इन हिंसाग्रस्त इलाके में खुद हीं गश्त करते रहे। उन्होंने बड़ी बारिकी से हालात का जायजा लिया और फिर वह अगले दिन यानी मंगलवार को तड़के ही इन इलाके की गलियों में सामान्य आदमी की तरह जनता के बीच मिलने पहुंच गए।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को हिंसा रोकने की जिम्मेदारी दी गई। जिसके बाद डोभाल एक बार फिर से नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के सीलमपुर इलाके में डीसीपी ऑफिस पहुंचे।

दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिले में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर भड़की हिंसा में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने देर रात हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया।