अजीत पवार

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महा अघाड़ी सरकार के गठन के करीब एक महीने के बाद आज पहला कैबिनेट विस्तार होगा। महाराष्ट्र में कुल 36 मंत्री शपथ लेने वाले हैं। इनमें 25 कैबिनेट मंत्री होंगे, जबकि 10 राज्य मंत्री होंगे।

देखिए अजीत पवार पर एनसीपी ने क्या कहा?

शरद पवार और अजीत पवार के बीच विधायकों को लेकर रस्साकशी तेज हो गई है। एनसीपी के जो एमएलए मुंबई के बाहर थे, उनको वापस लाया जा रहा है। एनसीपी के नेताओं ने गुड़गांव से दो एमएलए को मुंबई वापस भेज दिया है। इन्हें रातों-रात मुंबई भेजा गया।

इसके अलावा उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि- 'मैं एनसीपी में हूं और हमेशा एनसीपी में रहूंगा और शरद पवार साहब हमारे नेता हैं। हमारा भाजपा-राकांपा गठबंधन अगले पांच वर्षों के लिए महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार प्रदान करेगा जो राज्य और इसके लोगों के कल्याण के लिए ईमानदारी से काम करेगी।'

शुक्रवार रात 11.45 बजे से शनिवार सुबह नौ बजे तक अजीत फडणवीस के साथ रुके और शपथ ग्रहण से पहले उन्हें नहीं जाना था।

महाराष्ट्र में शिवसेना के सपने में कौन बना खलनायक? जानिए एक रात में कैसे पलटा खेल?

देवेंद्र फडणवीस ने एक बार फिर से महाराष्ट्र के सीएम पद की शपथ ली तो वहीं एनसीपी के अजित पवार ने भी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

अगर गठबंधन टूटा तो उसके लिए भी उद्धव ही जिम्मेदार ठहराए जाएंगे। उद्धव ठाकरे का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं है। वह इस कुर्सी पर अपनी किसी कठपुतली को बिठाना चाहते हैं।

खबर की मानें तो इस बैठक में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच सरकार चलाने को लेकर साझा न्यूनतम कार्यक्रम को लेकर भी सहमति बन गई है।