अनुच्‍छेद 370

Sambit Patra attacks Farooq Abdullah : जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) एक बार फिर विवादों में है। दरअसल रविवार को फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि चीन की मदद से जम्मू-कश्मीर में फिर से अनुच्छेद 370 को बहाल किया जाएगा।

Farooq Abdullah: अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) के पूर्व मुख्‍यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। दरअसल  फारूक अब्दुल्ला ने दावा किया है कि कश्मीर के लोग खुद को भारतीय नहीं मानते। और न ही भारतीय होना चाहते हैं।

पिछले साल 5 अगस्त को राज्य को केन्द्रशासित प्रदेश (Union territories) का दर्जा देने के बाद भी पत्थरबाजी (Stone pelting) की घटनाओं में कमी नहीं आई, लेकिन इससे होने वाली जनहानि में खासी कमी आई है। ऐसा होने के पीछे कुछ अहम कारण हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के एक साल बाद भी काफी बेचैन और बौखलाए हुए हैं। उन्होंने इस मुद्दे पर पीएम मोदी के लिए बहकी बहकी बातें की।

बता दें कि केंद्र सरकार ने 5 अगस्‍त 2019 को जम्‍मू कश्‍मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधान खत्म किए थे। इस दौरान सरकार ने वहां के तमाम नेताओं को हिरासत में ले लिया था। उस समय जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, फारूख अब्दुल्ला और कई अन्य राजनेता भी हिरासत में लिया गया था।

लोन मुख्य धारा के उन 50 नेताओं में शामिल हैं, जिन्हें पिछले साल पांच अगस्त को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को समाप्त करने के समय गिरफ्तार किया गया था।

जम्मू-कश्मीर की नयी अधिवासन नीति वस्तुतः जम्मू-कश्मीर के नव-निर्माण का दस्तावेज है। यह नीति जम्मू-कश्मीर की महत्वाकांक्षी निर्माण परियोजना में अपना श्रम, कौशल, प्रतिभा और पूँजी लगाने वाले भारतीयों का स्वागत-द्वार है।

टीम भारत ने सोशल मीडिया पर ये दस्तावेज में शेयर किए हैं। इसके मुताबिक पाकिस्तानी सेना ने एक लंबा-चौड़ा प्लान बनाया है। 5 अगस्त को कई चरणों में इसे अंजाम दिया जाएगा। सबका मकसद एक ही है भारत के खिलाफ अशांति भड़काना।

भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को गुजरात और केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख में नए अध्यक्षों की तैनाती की। गुजरात की कमान सांसद सीआर पाटिल तो लद्दाख के लिए सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल को चुना गया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को यह नियुक्ति की।

यूएनएचआरसी के 43वें सत्र में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर का मुद्दा उठाने पर राइट टू रिप्लाई का इस्तेमाल करते हुए भारत के स्थायी मिशन के प्रथम सचिव सेंथिल कुमार ने इस्लामाबाद को राइट्स फोरम का दुरुपयोग करने पर लताड़ा।