अमरनाथ यात्रा

बोर्ड ने इस साल की अमरनाथ की यात्रा में जाने वाले सभी तीर्थ यात्रियों के लिए उनके राज्य या केंद्र शासित प्रदेश द्वारा नामित डॉक्टरों या अस्पतालों द्वारा जारी किए गए निर्धारित अनिवार्य स्वास्थ्य प्रमाण पत्र को यात्रा के लिए ज़रूरी बताया है।

जम्मू-कश्मीर में अब कारगिल में सरकारी अधिकारियों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि अधिकारी ऑफिस ना छोड़ें और साथ ही अपने फोन को स्वीच ऑफ ना करने के भी आदेश दिया गया है।

इस एडवाइजरी के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने ऐतराज जताया है। उन्‍होंने कहा है कि इससे डर का माहौल बना है।

उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़कर 'बेवजह का डर' पैदा किया जा रहा है। राज्यपाल ने राजनीतिक नेताओं से अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने और 'अफवाहों' पर भरोसा ना करने की बात कही है।

संभावित खतरे और स्नाइपर राइफल की बरामदगी के बाद बीच में ही रोकी गई अमरनाथ यात्रा

जम्मू कश्मीर में अमरनाथ यात्रा में आतंकी हमले का खतरा मंडरा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने यात्रा को फिलहाल रोक दिया है और यात्रियों को वापस जाने की हिदायत दी गई है।

पुलिस ने कहा कि जम्म-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर अवरोध होने के कारण भगवती नगर यात्री निवास से बुधवार को किसी श्रद्धालु को यात्रा के लिए अनुमति नहीं दी गई।

जम्मू से मंगलवार को 1,175 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना हुआ। पिछले 29 दिनों में 3.20 लाख से ज्यादा श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन कर चुके हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के विद्यार्थियों के लिए दिलचस्प प्रतियोगिता के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि क्विज कॉम्पीटिशन के जरिए सबसे ज्यादा नंबर पाने वाले बच्चों को 7 सितंबर को श्रीहरिकोटा ले जाया जाएगा और चंद्रयान 2 की लैडिंग देखने का मौका मिलेगा।

श्रद्धालुओं के अनुसार, कश्मीर में समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊपर स्थित अमरनाथ गुफा में बर्फ की विशाल संरचना बनती है जो भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों की प्रतीक है।