आईआरसीटीसी

Indian Railway Specail Train : भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने त्योहार के सीजन (Festive Season) को देखते हुए अगले महीने से ट्रेनों की संख्या बढ़ाने (Increase the number of Trains) की योजना बनाई है।

कई स्पेशल ट्रेनों (Special Trains) में भारी भीड़ को देखते हुए रेलवे (Indian Railway) ने 21 सितंबर से चुनिंदा रूटों पर 20 जोड़ी क्लोन ट्रेन (Clone Trains) चलाने का निर्णय लिया है।

कोरोना महामारी (Corona epidemic) की वजह से पूरी दुनिया की रफ्तार थम सी गई है। 22 मार्च के बाद से भारत (India) में सबकुछ बंद कर दिया गया। लेकिन अनलॉक की प्रक्रिया में धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है। ऐसे में भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने 80 नई स्पेशल ट्रेनें (Special Trains) शुरू की है।

सिर्फ 5 फीसदी अतिरिक्त ट्रेनों का ही परिचालन प्राइवेट ऑपरेटर्स को दिया जा रहा है। बाकी 95 ट्रेनों का परिचालन रेलवे करेगा।

भारतीय रेल 27 मई तक 3543 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर चुकी है। इस दौरान 26 दिनों में 48 लाख यात्रियों को उनके गृह राज्यों तक पहुंचाया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि गुरुवार तक रेलवे ने 2,317 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया है और देश भर में 31 लाख से अधिक लोगों को उनकी मंजिल तक पहुंचाया है। रेलवे ने कई शहरों में 15 जोड़ी विशेष वातानुकूलित ट्रेनों का संचालन भी शुरू कर दिया है।

पैसेंजर, मेल और एक्सप्रेस ट्रेन सेवाओं को निलंबित करने के लगभग दो महीने बाद 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों के लिए बुकिंग शुरू करने वाली भारतीय रेलवे ने सोमवार को बुक किए गए 45,500 से अधिक टिकटों से 16.15 करोड़ रुपये कमाए।

नई दिल्ली ​रेलवे स्टेशन पर आज ट्रेन पकड़ने पहुंचे लोगों का हुजूम देखने को मिला। जहां कोई सोशल डिस्टेंसिंग नजर नहीं आई। भारतीय रेलवे आज से 15 शहरों के लिए ट्रेन चलाने जा रही है। इन सभी ट्रेनों के लिए ऑनलाइन टिकट बुकिंग आईआरसीटीसी सोमवार शाम 6 बजे से शुरू हो गई। ट्रेन सेवा शुरू होने के बाद आज नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर कुछ ऐसा नजारा था।

वहीं मंत्रालय ने ये भी कहा, 'श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन करने के लिए निर्दिष्ट गंतव्य के अनुसार राज्य द्वारा दी गई यात्रियों की संख्या के अनुसार ट्रेन टिकट की छपाई की जाएगी।

भारतीय रेल ने होली के बाद लोगों को बड़ा झटका देते हुए बुधवार को रद्द होने वाली ट्रेनों की पूरी लिस्ट जारी कर दी है। इसकी पूरी जानकारी आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर दी गई है।