आईएमएफ

आईएमएफ प्रमुख ने कहा, "सिर्फ तीन महीने पहले हमारा अनुमान था कि हमारे 160 सदस्य देशों में इस साल प्रति व्यक्ति आय बढ़ेगी। अब सब कुछ बदल गया है। अब 170 से अधिक देशों में प्रति व्यक्ति आय घटने का अनुमान है।"

कमजोर कारोबारी रुझानों के बीच मंगलवार को सेंसेक्स और निफ्टी पिछले सत्र के मुकाबले गिरावट के साथ खुले। दोनों प्रमुख सूचकांकों में लाल निशान के साथ कारोबार चल रहा था। आंरभिक कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से ज्यादा लुढ़का और निफ्टी भी 60 अंक से ज्यादा फिसला।

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने हाल में यह चेतावनी दी थी कि आईएमएफ जनवरी में भारत की वृद्धि के अपने अनुमान में उल्लेखनीय कमी कर सकता है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा है कि हाल के वर्षों में भारत की उच्च विकास दर के बावजूद औपचारिक क्षेत्र के रोजगार में उस हिसाब से वृद्धि नहीं हुई। यानी आर्थिक वृद्धि दर और रोजगार वृद्धि दर में मेल नहीं है और श्रम बाजार की भागीदारी घटी है।

आईएमएफ के मुताबिक आरबीआई मौद्रिक नीति के रेपो रेट में कटौती के फैसलों और कॉरपोरेट टैक्‍स के मोर्चे पर राहत की वजह से भारत में निवेश तेज होने की उम्मीद है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने चालू वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भारत की आर्थिक विकास दर का अपना अनुमान घटाकर छह फीसदी कर दिया है। इससे पहले आईएमएम ने जुलाई में कहा था कि चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक विकास दर सात फीसदी रह सकती है।

आईएमएफ की तरफ से जारी बयान के अनुसार, जॉर्जीएवा का चयन 189 देशों के सदस्यों वाली संस्था के 24 सदस्यीय कार्यकारी बोर्ड ने किया। इसकी चयन प्रक्रिया 26 जुलाई, 2019 को शुरू हुई थी। उनकी नियुक्ति एक अक्टूबर से प्रभावी होगी।

अमेरिका के तीन प्रभावशाली सांसदों ने राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के प्रशासन से अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से पाकिस्तान द्वारा प्रस्तावित कई अरब डॉलर के ‘बेलआउट पैकेज’ का विरोध करने का आग्रह करते हुए कहा कि इसका उपयोग चीन का ऋण चुकाने के लिए किया जा सकता है।

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के मुख्य अर्थशास्त्री मौरिस ओब्स्टफील्ड ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की तारीफ की...

नई दिल्ली। एक बार फिर भारत की तारीफ करते हुए आईएमएफ ने कहा है कि भारत ना सिर्फ दुनिया की...