आप

लोगों से अपील करते हुए केजरीवाल ने कहा कि, पांडे जी को नाचना नहीं आता काम करना आता है, इस बार काम करने वाले को वोट देना, नाचने वाले को वोट मत देना, नाचने वाला कोई काम नहीं आएगा, काम करने वाला काम आएगा।

दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र भारतीय राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली का महत्वपूर्ण संसदीय क्षेत्र है। 1952 में देश के लिए हुए लोकसभा चुनावों के दौरान यह सीट अस्तित्व‍ में नहीं थी। 1966 में इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र को गठित किया गया। यह दिल्ली का दक्षिण जिला है। इसे कालकाजी, डिफेंस कॉलोनी, हौजखास उपमंडल में बांटा गया है।

दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और तीन अन्य को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता राजीव बब्बर द्वारा दायर मानहानि याचिका में व्यक्तिगत पेशी से छूट दे दी।

पूर्वी दिल्ली से आप प्रत्याशी आतिशी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह ऐसा कहते हुए सुनी जा रही हैं कि हमें बीजेपी को हराना है और अगर उसे हराने का माद्दा रखने वाली पार्टी से कोई गुंडा भी खड़ा हुआ है तो आप उस वोट दें। बीजेपी ने आतिशी के इस 59 सेकेंड के वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया है।

दिल्ली के 7 लोकसभा सीटों में से एक है पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट। 1966 में इस सीट के अस्तित्व में आने के बाद से कभी इस सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा तो कभी इस सीट पर भाजपा ने जीत दर्ज की। 2014 में दिल्ली की सभी सीटों पर भाजपा का कब्जा हुआ तो इस सीट से भाजपा के उम्मीदवार महेश गिरी ने कांग्रेस की झोली से यह सीट भी अपनी झोली में डाल ली। वर्तमान में, इस क्षेत्र में दिल्ली नगर निगम के 40 वार्ड शामिल हैं। लगभग 25 लाख की आबादी वाले इस क्षेत्र में 16 लाख मतदाता हैं।

कांग्रेस ने शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ निर्वाचन आयोग में शिकायत दर्ज कराई, जिसमें उन पर मतदातओं को लुभाने के लिए सांप्रदायिक और भड़काऊ बयान देने का आरोप लगाया गया है।

आम आदमी प्रत्याशी आतिशी मर्लेना ने गौतम गंभीर पर दो वोटर आईडी रखने का आरोप लगाया है। आतिशी का आरोप है कि गौतम गंभीर दो जगह से वोटर हैं।

लोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र जारी

आम आदमी पार्टी (आप) ने गुरुवार को लोकसभा चुनाव 2019 के लिए दिल्ली में अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खुद इसकी घोषणा करते हुए शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला सुरक्षा, प्रदूषण, सीलिंग, परिवहन आदि से संबंधित कई वादे किए।

दोनों दलों के बीच पिछले कुछ हफ्तों से गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही थी। संजय सिंह ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, पी.सी. चाको और अहमद पटेल से मुलाकात की, लेकिन गठबंधन को अंतिम रूप नहीं दिया जा सका।