इंदिरा जयसिंह

इंदिरा जयसिंह के इस बयान पर निर्भया की मां आशा देवी ने भी अपना गुस्सा निकाला है। उन्होंने भड़कते हुए कहा कि, आखिर ऐसा बोलने वाली वो होती कौन हैं। आशा देवी ने इंदिरा जयसिंह को लेकर कहा कि, ‘वे सुप्रीम कोर्ट में उनसे कई बार मिलीं, लेकिन उन्होंने एक बार भी उनका हाल-चाल नहीं पूछा। आज वो दोषियों के हक में बोल रही हैं। आशा देवी ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसे लोग बलात्कारियों को सपोर्ट कर अपनी रोजी रोटी चलाते हैं, इसलिए पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिलता है। इस तरह का सुझाव देने की उनकी हिम्मत कैसे हुई?’

पहले वकील इंदिरा जयसिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि, ‘मैं आशा देवी का दर्द पूरी तरह से समझती हूं। फिर भी मैं उनसे अपील करती हूं कि वह सोनिया गांधी के उदाहरण का अनुसरण करें।

दरअसल इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां से अपील की है कि वह दोषियों को माफ कर दें और सोनिया गांधी का अुनसरण करें। उन्होंने कहा, जिस तरह से सोनिया गांधी ने राजीव गांधी की हत्या के मामले में दोषी नलिनी को माफ कर दिया था, उसी तरह निर्भया की मां को भी करना चाहिए।

बात-बात में मोदी सरकार पर नैतिकता, ईमानदारी और मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाने वाले अब खुद ही बड़ी मात्रा में विदेशी रकम के वारे-न्यारे में फंसते जा रहे हैं।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को एफसीआरए नियमों के कथित उल्लंघन के मामले में सर्वोच्च न्यायालय की वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह और उनके पति आनंद ग्रोवर के राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और मुंबई स्थित आवासों पर छापेमारी की। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।