इजरायल

एयर इंडिया के जरिए विदेश में फंसे दो हज़ार से अधिक भारतीयों को वापस लाया जा चुका है। इनमें से ज़्यादातर भारतीय चीन, इटली और ईरान में फंसे हुए थे।

मध्य पूर्व के लिए अमेरिका द्वारा हाल ही में पेश की गई शांति योजना के खिलाफ ट्यूनीशिया की राजधानी ट्यूनिश के मध्य में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शन किया। इस योजना को 'डील ऑफ द सेंचुरी' के नाम से भी जाना जाता है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, इजरायल और सूडान के बीच बैठक नेतन्याहू की युगांडा के एंटेब्बे के एक दिवसीय दौरे पर हुई। दोनों देशों के बीच आधिकारिक कूटनीतिक रिश्ते नहीं हैं।

इजरायल की आंतरिक सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख नादाव अर्गामेन ने कहा है कि देश में पिछले साल लगभग 500 आतंकवादी हमले नाकाम किए गए।

इजराइल रेडियो ने बताया कि दो रॉकेटों को रोक दिया गया और एक तीसरा एक खाली मैदान में गिरा जिससे कोई नुकसान नहीं हुआ। हमले की जिम्मेदारी किसी ने नहीं ली है।

इरेकाट ने शनिवार को एक ट्वीट में कहा, "कांग्रेस का प्रस्ताव 326 अवैध बस्तियों और कब्जों को वैध बनाने के ट्रंप प्रशासन के प्रयासों को झटका देता है। यह आत्मनिर्णय के हमारे अधिकार का समर्थन करता है।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, पोम्पियो ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि यह फैसला जमीनी वास्तविकता के आधार पर लिया गया है।

इजरायल के सांसदों ने एक नई सरकार के गठन के बिना नई संसद या कनेसेट की शपथ ली। गौरतलब है कि देश में हुए संसदीय चुनावों में सरकार गठन के लिए आवश्यक बहुमत किसी पार्टी को नहीं मिलने के बाद राजनीतिक गतिरोध की स्थिति बनी हुई है।

इजराइल के प्रधानमंत्री इजरायल बेंजामिन नेतन्याहू चुनाव से पहले भारत के दौरे पर आने वाले थे। लेकिन यात्रा से पांच दिन पहले नेतन्याहू ने भारत दौरा रद्द कर दिया है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, फिलिस्तीन के सरकारी प्रवक्ता नबिल अबु रुदैनेह ने रविवार को एक आधिकारिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस निर्णय में अमेरिका की विदेश नीति में अभूतपूर्व गिरावट दिखती है।