इराक

इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हुए हमले में 80 सैनिकों की मौत हुई है। यह दावा ईरानी मीडिया ने किया है। ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद ईरान ने इराक स्थित अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर दर्जनभर बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया।

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'इराक की मौजूदा स्थिति को देखते हुए, भारतीय नागरिकों को सलाह दी जाती है कि वे अगली अधिसूचना जारी होने तक इराक की सभी गैर-आवश्यक यात्रा से बचें। इराक में रहने वाले भारतीय नागरिकों को सलाह दी जाती है कि वह सतर्क रहें और इराक के अंदर यात्रा करने से बचें।'

ईरान की आपात चिकित्सा सेवा के प्रमुख पीरहुसैन कौलीवंद ने इससे पहले फोन पर देश की सरकारी टीवी से भगदड़ की पुष्टि की। उन्होंने कहा, "बदकिस्मती से अंतिम संस्कार के दौरान भगदड़ के कारण हमारे कुछ हमवतन साथी घायल हो गए और कुछ लोगों की मौत हो गई है।"

अमेरिका ने इराक में लगातार दूसरे दिन हवाई हमला किया है। इस हमले में अबतक की रिपोर्ट के मुताबिक 6 लोग मारे गए हैं। शुक्रवार को हुए हमले में अमेरिका ने ईरान के टॉप मिलिट्री जनरल कासिम सुलेमानी को बगदाद में मार गिराया था।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश पर किए गए एक हवाई हमले में इराक में एक शीर्ष ईरानी कमांडर के मारे जाने के बाद वैश्विक तेल कीमतों में शुक्रवार को तीन प्रतिशत से अधिक की उछाल दर्ज की गई।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो इराक की मौजूदा परिस्थितियों पर नजर रखने की जरूरत देखते हुए यूक्रेन और चार अन्य देशों का अपना दौरा रद्द स्थगित करेंगे।

साल 2017 के अंत में इराकी सुरक्षा बलों द्वारा आईएस आतंकवादियों को देशभर में हराने के बाद से देश में सुरक्षा स्थिति में हालांकि अविश्वसनीय बदलाव आया है, लेकिन युद्धग्रस्त देश में छिटपुट हमले हुए हैं।

करदाश को बगदादी का बेहद करीबी माना जाता है और दोनों 2003 में अलकायदा से संबंध होने के आरोप में इराक में बसरा स्थित जेल में एक साथ रहे थे। इससे पहले, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रविवार को घोषणा की कि अमेरिकी सेना से घिरने के बाद अबु बकर अल-बगदादी ने खुद को ही उड़ा लिया था।

सूत्रों के अनुसार, एक अधिकारी समेत चार लोग घायल हो गए, जिन्हें नजदीकी अस्पताल में ले जाया गया। कमल के अनुसार, गश्ती दल क्षेत्र में एक सुरक्षा ऑपरेशन शुरू करने के लिए निरीक्षण करने आया था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, विदेश विभाग द्वारा मंगलवार को जारी बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं ने तुर्की के सैन्य अभियान पर चिंता व्यक्त की और कहा कि अंकारा को इसे तुरंत रोकने की जरूरत है।