ईस्ट इंडिया कंपनी

एक जनवरी, 1818 को हुए मशहूर कोरेगांव-भीमा युद्ध में बाजीराव पेशवा द्वितीय के 28,000 सैनिकों का सामना ईस्ट इंडिया कंपनी की द बम्बई नेटिव इन्फेंट्री सेना की एक टुकड़ी से हुआ था, जिसमें मात्र 800 महार सैनिक शामिल थे और करीब 12 घंटे तक चले इस युद्ध में महार ने पेशवा की मजबूत सेना को हरा दिया था।