उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के करीब 7,500 छात्र कोटा शहर के विभिन्न कोचिंग संस्थानों में मेडिकल और इंजीनियरिंग की कोचिंग कर रहे थे और कोरोना महामारी के कारण छात्रावास और गेस्ट हाउस में फंसे हुए थे। ये छात्र अपने अपने घरों को जाने के लिये काफी परेशान थे और सोशल मीडिया पर लगातार अपील कर रहे थे।

वहीं इस ट्वीट के बाद बॉलीवुड गीतकार जावेद अख्तर सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गए। लोगों ने उनके पर प्रतिक्रिया देते हुए उनकी जमकर खिचाई कर डाली। एक यूजर ने जावेद अख्तर को ट्रोल करते हुए लिखा कि, ‘अब इसके लिए फतवा निकालने को नहीं बोलोगे।’ 

यहां टिकटॉक के शौकीन को उसका शौक जानलेवा साबित हुआ। टिकटॉक शौकीन ने चंद दिन पहले एक टिकटॉक बनाया था। उम्मीद थी कि इस टिकटॉक पर लाइक्स की संख्या बहुत होगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कोर टीम के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्पष्ट निर्देश दिए कि प्रदेश में कहीं पर भी कोई भूखा न रहे।

पत्र में महासचिव ने लिखा है कि "कोरोना महामारी ने आज ज्यादातर क्षेत्रों की कमर तोड़ दी है। प्रदेश का हर एक तबका इस आपदा और इसके आर्थिक व सामाजिक दुष्प्रभावों से परेशान है। कोरोना आपदा की वजह से कई ऐसे आर्थिक व सामाजिक स्तर के मुद्दे हैं जिन पर तुरंत ध्यान देने से आम जन को बहुत राहत मिलेगी।"

कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते लॉकडाउन कि अवधि बढ़ा दी गई है, जिससे कई लोगों को जरूरत का सामान और खाने की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

एक तरफ योगी ने जहां प्रदेश में लॉकडाउन को सफलता पूर्वक लागू करवाने एवं गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की अध्यक्षता 11 कमेटियों का गठन किया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह भी निर्देश दिया कि पूरे प्रदेश में सुनिश्चित किया जाए कि स्वास्थ्य टीम के साथ पुलिस टीम भी मौके पर जाए, साथ ही लॉकडाउन का अनुपालन शक्ति से कराया जाए।

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने लॉकडाउन लागू होने के बाद से दिहाड़ी मजदूरों के खातों में एक हजार रुपये की दर से अब तक 22,214 करोड़ रुपये भेज चुकी है।

उत्तर प्रदेश में कोरोना मुक्त पहला जिला घोषित होने के बाद पीलीभीत सुर्खियों में आया है। पीलीभीत को यह तमगा यहां के समर्पित सरकारी डॉक्टरों की बदौलत मिला है।