उन्नाव केस

अखिलेश यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश हैदराबाद की घटना को लेकर गुस्से में था। खासकर बहनें और माताएं। और उसके बाद उन्नाव की घटना उसी तरह से हुई। उन्नाव की घटना बीजेपी सरकार में पहली नहीं है।

सीएम योगी ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है, साथ ही कहा है कि यह घटना दुखद है। सीएम योगी ने कहा है कि सभी आरोपी पकड़े जा चुके हैं, उन्हें जल्द सजा दिलाई जाएगी। साथ ही सीएम योगी ने पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना जताई है।

उन्नाव मामले को लेकर योगी सरकार निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, अगर किसी महिला के साथ अत्याचार होगा और 4 महीने तक एफआईआर तक दर्ज नहीं करेंगे, कोई कार्रवाई नहीं करेंगे, अपराधी को दो महीने में बेल पर छोड़ देंगे।

राष्ट्रपति ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा एक गंभीर मुद्दा है, पॉक्सो एक्ट के तहत सज़ा पाए दुष्कर्म के अपराधियों को दया याचिका का अधिकार नहीं मिलना चाहिए।

परिवारिक सूत्रों का कहना है कि दाह संस्कार दोपहर को होगा। मनोज सेंगर दिल्ली में रहकर कुलदीप सेंगर के मामलों को देख रहा था। रायबरेली में 28 जुलाई के दुर्घटना मामले में वह भी ओरोपी था।

मामले के आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर को सुनवाई के लिए तिहाड़ जेल से एम्स लाया गया। विशेष न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने यहां ट्रॉमा सेंटर में स्थापित कोर्ट में मामले की सुनवाई की। ट्रॉमा सेंटर में ही पीड़िता भर्ती है।

यूपी कांग्रेस बेहद जर्जर स्थिति में है। आपसी शक और अविश्वास का आलम यह है कि कांग्रेस के अपने ही नेताओं को गद्दार बताकर पार्टी से निकाला जा रहा है।

कुलदीप सिंह सेंगर के पास एक सिंगल बैरल बंदूक, एक रायफल और एक रिवॉल्वर का लाइसेंस है। रेप के आरोप में सीबीआई ने कुलदीप सेंगर को 13 अप्रैल 2018 में गिरफ्तार किया था। इसके बाद से ही हथियार लाइसेंस को रद्द करने की कवायद शुरू हो गई थी।

अब सुप्रीम कोर्ट ने फैसला लिया है कि, पीड़िता का इलाज लखनऊ में ही होगा और साथ ही पीड़िता के चाचा को दिल्ली की तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आदेश दिया है। 

सीजेआई ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के परिवार द्वारा उसके समक्ष 12 जुलाई को लिखे गए पत्र को पेश करने में हुई देरी को लेकर जवाब मांगा है। चीफ जस्टिस कल उन्नाव केस की सुनवाई करेंगे।