उमर खालिद

1969 में जेएनयू (JNU) की स्थापना कांग्रेस (Congress) और वामपंथ (leftist) के दुरभिसंधि काल में हुई थी। दोनों के बीच परस्पर अलगाव, अविश्वास, षड्यंत्र और संघर्ष का दौर समाप्त हो चुका था। कांग्रेस और वामपंथ में एक अघोषित और अलिखित परस्पर फायदे का समझौता हो चुका था। यह तय हुआ था कि केन्द्रीय सत्ता और राजनीति कांग्रेस के हाथ में होगी और कला, संस्कृति और बौद्धिक संस्थाओं से जुड़े सत्ता के केन्द्रों के सुविधाभोगी नियंता वामपंथी होंगे। सांस्कृतिक केंद्र वामपंथ की पाठशाला, कार्यशाला और प्रयोगशाला बन गए।

Umar Khalid Confession: अपने बयान में उमर(Umar Khalid) ने कहा कि, 'प्लान कामयाब ना होता देख हमने आंदोलन को और सख्त बनाने की योजना बनाई। हमने 16 और 17 फरवरी की शाम एक मीटिंग में तय किया कि अब हिंसा(Violence) का रास्ता अपनाकर ही सरकार को घुटनों पर लाया जा सकता है।

Delhi Riots: दिल्ली में फरवरी में हुए दंगों से संबंधित एक मामले में गिरफ्तार किए गए जेएनयू (JNU) छात्रसंघ के पूर्व नेता उमर खालिद (Umar Khalid) की मुश्किलें लगातार बढ़ती दिख रही है। दरअसल राष्ट्रीय राजधानी में फैली हिंसा (Delhi Violence) में आरोपी उमर खालिद के खिलाफ दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने गुरुवार को अपनी चार्जशीट दाखिल की है।

Farmers Protest: कृषि कानूनों (Agricultural laws) के खिलाफ देश में किसानों का विरोध प्रदर्शन (Farmer Protest) आज 16वें दिन भी जारी है। किसान अभी भी अपनी मांगों पर डटे हुए हैं। लेकिन अब कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में हो रहा किसानों का प्रदर्शन सवालों के घेरे में घिरता जा रहा है।

Delhi Riots: दिल्ली पुलिस(Delhi Police) की अर्जी का विरोध करते हुए उमर खालिद(Umar Khalid) के वकील ने कहा कि उमर खालिद ने पुलिस की जांच में पूरी तरह से सहयोग किया है। ऐसे में उमर खालिद पर यह आरोप लगाना कि उसने जांच में सहयोग नहीं कर रहा है, गलत है।

बॉलीवुड (Bollywood) अभिनेत्री स्वरा भास्कर (Swara Bhasker) सोशल मीडिया (Social Media) पर एक बार फिर ट्रोल हो गई है। दरअसल अब स्वरा भास्कर ने उमर खालिद (Umar Khalid) की रिहाई की मांग की है और इसे लेकर एक ट्वीट किया है।

दिल्ली पुलिस(Delhi Police) की स्पेशल सेल टीम और क्राइम ब्रांच(Crime Branch) दिल्ली दंगों से जुड़ी जांच कर रही है, स्पेशल सेल दंगों में हुई साजिश और उस साजिश में भाग लेने वाले लोगों की जांच कर रही है जबकि क्राइम ब्रांच की टीम उन लोगों को पकड़ रही है जो दंगों में संलिप्त थे।

15 जनवरी को सीलमपुर(Silampur) में हुए प्रदर्शन के बारे में फातिमा ने पुलिस के सामने खुलासा करते हुए कहा, "योजना के अनुसार भीड़ बढ़ने लगी थी। उमर खालिद(Umar Khalid), चंद्रशेखर रावण(Chandra Shekhar Ravan), योगेंद्र यादव, सीताराम येचुरी(Sitaram Yechury) और वकील महमूद प्राचा सहित बड़े नेता और वकील इस भीड़ को भड़काने के लिए आगे आने लगे।"

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) के छात्र नेता उमर खालिद पर गैर कानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम (UAPA) के तहत मामला दर्ज किया गया है। उमर खालिद के अलावा भजनपुरा इलाके के स्थानीय नागरिक दानिश के खिलाफ भी UAPA लगाया गया है।

देशद्रोह मामले में आरोपी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र रहे उमर खालिद का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में उमर खालिद कथित तौर पर कह रहे हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत आने पर सड़क पर उतरना होगा। यह भाषण डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से ठीक पहले 17 फरवरी का बताया जा रहा है।