एप्पल

एप्पल (Apple) ने अपनी नई वॉच सीरीज 6 (Watch Series) को लॉन्च कर दिया। ये वॉच ब्लड ऑक्सीजन मॉनिटर फीचर से लैस है। इस वॉच की सबसे बड़ी खासियत इसका ह्यूमन ब्लड ऑक्सीजन लेवल ट्रैक (Human blood oxygen level track) फीचर है।

दिग्गज टेक कंपनी 'एप्पल' (Apple) चीन (China) से अपना कारोबार तेजी से समेटकर भारत, थाईलैंड और वियतनाम जैसे देशों की तरफ रुख कर रही है। कहा जा रहा है कि कंपनी के इस फैसले के पीछे की वजह कोरोना वायरस (Coronavirus) है। ऐसे में भारत (India) में होगा बड़ा कारोबार, इससे लोगों को रोजगार मिलेगा।

माइक्रोसॉफ्ट के क्लाउड गेमिंग सर्विस को एप स्टोर पर नहीं दिखाए जाने के चलते कंपनी द्वारा एप्पल को दोषी ठहराया गया था और अब फेसबुक ने भी यह कहते हुए आईफोन निर्माता की आलोचना की है कि कंपनी ने आईफोन या अन्य किसी डिवाइस पर उन्हें अपने किसी गेमिंग एप को लॉन्च करने से मना कर दिया है।

ऐप्पल की योजना आईफोन 12 को मैग्नेटिक अटैचमेंट वायरलेस चार्जिग के साथ पेश करने की बताई जा रही है जिसमें चार्जिग पैड पर फोन अपने आप ही अनुकूल स्थिति में घूमता जाएगा।

Apple के मुख्य वित्तीय अधिकारी लुका मिस्त्री ने इस बात की पुष्टि की है कि नए 2020 आईफोन को सिंतबर में लॉन्च किए जाने की संभावना नहीं है, जैसा कि वे आमतौर पर किया करते हैं।

एप्पल ने शुक्रवार को कहा कि वह कुछ नए ईमोजी की एक श्रेणी का पूर्वावलोकन करने जा रहे हैं जिन्हें इस साल शरद ऋतु के समय आईफोन, आईपैड, मैक और एप्पल वॉच के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।

एप्पल अपने मैक कम्प्यूटर्स के लिए इंटेल प्रोसेसर से खुद को अपने यहां उत्पादित सिलिकॉन चिप्स की ओर स्थानांतरित कर रही है।

एप्पल इस साल 5-जी आईफोन-12 की 1.5 से दो करोड़ फोन सप्लाई करने की योजना बना रहा है। आपूर्ति श्रृंखला (सप्लाई चेन) का पहले अनुमान था कि एप्पल के 5-जी आईफोन (आईफोन-12) को तीन से चार करोड़ यूनिट के बीच शिप किया जाएगा।

मेरिका में कुछ राज्यों के बाजार फिर से खोले जाने के बाद, एप्पल 4 अमेरिकी राज्यों में अपने कुछ रिटेल स्टोर अस्थायी रूप से बंद करने जा रही है। मीडिया को मिली जानकारी के मुताबिक, कंपनी ने ये निर्णय अमेरिका में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर लिया है।

एप्पल ने अपने 13-इंच वाले मैकबुक प्रो की रैम को अपग्रेड करने के लिए कीमत दोगुनी कर दी है। मैकरियूमर की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका में ग्राहकों को 8 से 16जीब रैम अपग्रेड के लिए अब 200 अमेरिकी डॉलर का भुगतान करना होगा, पहले इसके लिए 100 अमेरिकी डॉलर देने पड़ते थे।