एयरफोर्स

खबर है कि लंबी दूरी के दो बोइंग 777-300ER विमान भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे ना कि एअर इंडिया को मिलेंगे। एक अखबार के मुताबिक विमान में एंटी मिसाइल तकनीक लगी होगी।

प्रसाद ने बताया कि उन्होंने करीब 9 साल तक एयरफोर्स में काम किया था। उसके बाद वह मुर्गीपालन करने लगे और अपना फार्म खोल लिया।

पायलट ने सूझबूझ का परिचय देते हुए विमान में लगे हुए अतिरिक्त फ्यूल टैंक और ट्रेनिंग बम को नीचे गिरा दिया। जिसके बाद विमान की अंबाला एयरफोर्स बेस पर सुरक्षित लैंडिंग हो गई। विमान से गिराए गए फ्यूल टैंक और ट्रेनिंग बम को बरामद कर लिया गया है।

मोदी सरकार पायलटों को लेकर बड़ा बदलाव करने जा रही है। खासकर सेना के पायलटों को लेकर बने कड़े नियमों में ढील दी जा सकती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, एयरफोर्स, नेवी और सेना के पायलट अब इंडिगो, स्पाइसजेट और एयर इंडिया जैसी एयरलाइंस के विमान उड़ाते नजर आएंगे।

भारतीय पायलट अभिनंदन की वतन वापसी का रास्ता साफ हो गया है। चूंकि पाकिस्तानी सेना मीडिया के सामने ये स्वीकार भी कर चुकी है कि भारतीय वायु सेना का एक पायलट उसके कब्जे में है। ये ही वजह है कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान हमारे पायलट को गुरुवार को रिहा करने जा रहा है।

नई दिल्ली। एयर फोर्ड डे के मौके पर वायुसेना की ताकत बढ़ाने वाला विमान मिग-29 अपग्रेड के बाद और घातक...