ओडिशा

बता दें कि यह ट्रेन 21 मई को शाम 7 बजकर 20 मिनट पर मुंबई के वसई स्टेशन से चली थी। श्रमिक एक्सप्रेस को 22 मई को गोरखपुर पहुंचनी थी, लेकिन गोरखपुर ना पहुंचकर ट्रेन ओडिशा के राउरकेला पहुंच गई।

प्रधानमंत्री मोदी ने ओडिशा में चक्रवात अम्फान प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और दूसरे वरिष्ठ अधिकारियों के साथ राज्य में चक्रवात अम्फान की​ स्थिति को लेकर बैठक की।

चक्रवात तूफान अम्फान ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में कहर बरपाया है। 190 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाले विकराल चक्रवाती तूफान अम्फान के कारण भारी तबाही हुयी और कम से 12 लोगों की मौत हुई है। जबकि पांच हजार से ज्यादा घरों को नुकसान हुआ है। इसके अलावा हावड़ा ब्रिज पर बैरिकेड ढह गए। उस तबाही कुछ तस्वीरें हम आपको दिखा रहे हैं।

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया, बंगाल का इतना नुकसान हुआ है कि उसे शब्‍दों में नहीं बयान किया जा सकता। कम से कम 10 से 12 लोगों की मौत हुई है। नुकसान कितना हुआ इसका अंदाजा लगाने में अभी कुछ दिन लगेंगे।

ओडिशा के तटीय जिलों में चक्रवाती तूफान अम्फान ने बुधवार शाम होने से पहले तबाही मचानी शुरू कर दी है। चक्रवात के पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ने के दौरान तेज हवाओं के साथ भारी बारिश शुरू हो गई है। तूफान की वजह से सैकड़ों पेड़ उखड़ गए हैं और बिजली व दूरसंचार के बुनियादी ढांचे को भी काफी नुकसान पहुंचा है।

सरकारें व एजेंसियां जरूरी सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान कर रहे हैं। यह दो दशकों में बंगाल की खाड़ी में दूसरा महाचक्रवात है। बता दें कि वर्ष 1999 में ओडिशा में आये महाचक्रवात के बाद अम्फान बंगाल की खाड़ी में यह ऐसा दूसरा चक्रवात है। 

ओडिशा के भद्रक जिले में कोरोनावायरस के तीन और मामले सामने आने के साथ राज्य में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 82 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को यह जानकारी दी।

ओडिशा में पांच और व्यक्तियों को कोरोनावायरस जांच रिपोर्ट में पॉजिटिव पाया गया। राज्य में अब कोरोना संक्रिमतों की कुल संख्या 79 हो गई है।

इस बीच, राज्य सरकार ने सभी जिलों में सामुदायिक स्तर पर तेजी से जांच शुरू करने का निर्णय लिया है। विकास आयुक्त सुरेश चंद्र मोहपात्रा ने कहा कि सरकार आने वाले दिनों में अधिक से अधिक जांच करेगी।

आपको बता दें कि ओडिशा में लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 30 अप्रैल तक कर दी गई है। ओडिशा ऐसा करने वाला पहला राज्य बन गया है। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक करने के साथ ही केंद्र सरकार से भी ऐसा करने की मांग की है।