कपिल मिश्रा

Delhi CM Kejriwal: दोहरे चरित्र को लेकर केजरीवाल(Arvind Kejriwal) पर आरोप यही नहीं रुकता है, दिल्ली पुलिस(Delhi Police) की कार्यशैली को लेकर भी केजरीवाल पर डबल स्टैंडर्ड रखने का आरोप लगाया जा रहा है।

Rinku Sharma Case: भारतीय जनता पार्टी(BJP) के नेता कपिल मिश्रा(Kapil Mishra) ने रिंकू शर्मा के परिवार को आर्थिक मदद देने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए उन्होंने सोशल मीडिया पर एक मुहिम भी छेड़ी हुई है।

Kapil Mishra: कपिल मिश्रा(Kapil Mishra) की इस मुहिम से काफी सारे लोग जुड़ रहे हैं। 5 लाख रुपये आर्थिक सहायता देते हुए मनीष मुंद्रा(Manish Mundra) ने कहा कि, जब 90 लाख हो जाएं तो बताइएगा, 10 लाख और दूंगा।

अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज हुई तांडव (Tandav) को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस सीरीज पर दर्शकों ने सोशल मीडिया पर सीधे आरोप लगाया है कि इसमें भगवान शिव और भगवान राम का अपमान किया गया है। ऐसे में अब इस सीरीज के खिलाफ भाजपा सांसद मनोज कोटक (Manoj Kotak) ने भी आपत्ती जताई है।

Bharat Bandh: कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली(Delhi) में धरना दे रहे किसानों ने आज भारत बंद का ऐलान किया है। इस बंद को देश के लगभग 24 विपक्षी दलों का समर्थन मिला है। 

Kapil Mishra Protest Support to Aranb: अर्नब(Arnab Goswami) के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने रविवार को राजघाट के पास जाकर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन में शामिल भाजपा (BJP) नेता तेजिंदर बग्गा और कपिल मिश्रा(Kapil Mishra) को गिरफ्तार कर लिया।

Delhi Riots : दिल्ली पुलिस(Delhi Police) का कहना है कि, "कपिल मिश्रा(Kapil Mishra) के पूरे बयान के रिकॉर्ड पर आ जाने से आहत एंकर ने असली व्हिसल ब्लोअर(Whistle Blower) को नजरअंदाज करते हुए दर्शकों को गुमराह करने का प्रयास किया है।"

गरुड़ प्रकाशन के द्वारा 'Delhi Riots 2020' के हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में प्रकाशन को मंजूरी दी गई है। इसकी जानकारी प्रकाशन की तरफ से ट्वीट कर भी दी गई है।

विरोध प्रदर्शन कर रहे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के खिलाफ शुरुआत से ही हमलावर रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता कपिल मिश्रा ने मंगलवार को एक बार फिर उन पर निशाना साधा। इस बार कोविड-19 के बढ़ते खतरे को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मिश्रा ने ट्वीट कर कहा, "पहले उन्होंने हमारे यातायात को रोका, हमें स्कूल-अस्पताल और कार्यालय जाने से भी रोका। अब शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी आत्मघाती मिशन पर निकले आतंकवादियों की तरह व्यवहार कर रहे हैं।"

कपिल मिश्रा को लेकर एक फेक न्यूज एनडीटीवी की तरफ से प्रसारित किया गया जिसके बाद चैनल को इस पूरे प्रकरण पर सोशल मीडिया पर सफाई देनी पड़ी।