कपिल सिब्बल

कोरोनावायरस और लॉक डाउन के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर तंज कसा है। सिब्बल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भारत की दो तस्वीरों को पेश करते हुए मौजूदा हालात को बयां किया है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को कहा कि देश में एक अभूतपूर्व लॉकडाउन चल रहा है, जिसके चलते प्रवासी संघर्ष कर रहे हैं और ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह चुप्पी साधे हुए हैं

पूर्व र्चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल पर एक बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है किसाल 2018 में जब सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने ऐतिहासिक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी, उसके बाद वह तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव में सुप्रीम कोर्ट का समर्थन मांगने उनके आवास गए थे।

कपिल सिब्बल से अमित शाह ने सीएए को लेकर सवाल पूछ लिया और सिब्बल ने उसका जो जवाब दिया वह अब कांग्रेस के गले का फांस बनने वाली है।

राज्यसभा में विपक्ष के सवालों का जवाब देने आए गृहमंत्री अमित शाह ने पूरी संयमता के साथ सारे नेताओं के सवालों का जवाब दिया।

सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि हर आंदोलन में कोई ना कोई प्रतिनिधि होता है। मीडिया से बात करने के लिए प्रतिनिधि थे, लेकिन गृह मंत्री से बात करने के लिए कोई प्रतिनिधि नहीं था।

सुप्रीम कोर्ट में लंबित और कई महत्वपूर्ण याचिकाओं को देखते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया शरद अरविंद बोबडे ने बड़ा फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने पहली बार होली की सात दिनों की छुट्टियों के दौरान अवकाश पीठ का गठन किया है और यह पीठ इस दौरान महत्वपूर्ण मुद्दों पर सुनवाई करेगी।

गौरतलब है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का एक दल जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलकर केंद्र सरकार से राजधर्म निभाने की बात कही तब भाजपा आक्रमक हो गई। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी राजधर्म के नाम पर लोगों को भड़काने का काम ना करे।

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार को कहा- हमारे पास प्रोजेक्ट करने के लिए कोई नेता नहीं है। यह पार्टी के भीतर एक गंभीर मुद्दा है। हम इसे जल्द से जल्द हल करेंगे।

आपको बता दें कि सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा 15 फरवरी और हरियाणा बोर्ड की मार्च के पहले सप्ताह से शुरू होनी हैं। ऐसे में बच्चों पर अच्छे नंबर लाने का तनाव काफी होता है।