कमलनाथ

सचिन पायलट यहां कांग्रेस के लिए जीत तय करनेवाले विमान की मुख्य सीट पर बैठकर उसको चला रहे थे और सत्ता की मलाई खाने का जब वक्त आया तो पार्टी की तरफ से अशोक गहलोत को सामने लाकर खड़ा कर दिया।

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से चंदा मिलने के बाद आयात में दी गई रियायतों के लिए तत्कालीन वाणिज्य मंत्री कमलनाथ की भूमिका को संदिग्ध बताते हुए पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है।

पूर्व कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के किसी नेता का नाम लिए बगैर हमला बोला।

सवाल करते हुए कमलनाथ ने कहा कि,उन्होंने सवाल किया, “क्या मोदी जी के लॉकडाउन के नियम सिर्फ गरीबों, आमजन के लिए हैं? आपकी पार्टी के नेताओं पर यह नियम लागू नहीं होते?

इससे पहले, पिछले दिनों ही सिंधिया के प्रभाव वाले क्षेत्रों में शामिल श्योपुर, ग्वालियर ग्रामीण, विदिशा, सीहोर, शिवपुरी, गुना शहर, गुना ग्रामीण और होशंगाबाद के अध्यक्ष बदले गए थे।

मध्य प्रदेश कांग्रेस में मची गुटबाजी के पीछे की एक बड़ी वजह चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी की पार्टी में होने वाली वापसी है। चौधरी राकेश सिंह उपनेता प्रतिपक्ष रहे हैं। वे भाजपा में चले गए थे मगर लोकसभा चुनाव के पहले उन्होंने भाजपा छोड़ दी। अब उनकी वापसी एआईसीसी (AICC) के माध्यम से होनी है। 

सर्वोच्च अदालत ने फैसले में कहा है कि मार्च में राज्यपाल द्वारा बहुमत परीक्षण का आदेश देना सही था।

कमलनाथ ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "यह जाहिर है कि सबकुछ सामान्य दिखाने के लिए संसद को चलाया गया और जब शिवराज सिंह चौहान ने शपथ ले ली, तो लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई।"

मध्य प्रदेश के इंदौर में लगातार दूसरे दिन एक और चिकित्सक की कोरोना वायरस की महामारी के चलते मौत हेा गई है। इस तरह इंदौर में मौत का आंकड़ा 24 हो गया है।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने महामारी कोरोना वायरस से मुक्ति के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करने की अपील की है।