कांग्रेस

अमित शाह ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को यह साबित करने की चुनौती दी कि संशोधित नागरिकता कानून किसी भी भारतीय मुस्लिम की नागरिकता छीन लेगा।

वीर सावरकर को लेकर कांग्रेस और शिवसेना के बीच एक बार फिर तकरार बढ़ सकती है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने सावरकर के मामले को लेकर कांग्रेस पर सीधा हमला बोला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आलोचक कहे जाने वाले जाने-माने इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लेकर बड़ा बयान दिया है। रामचंद्र गुहा ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में वायनाड से राहुल गांधी को चुनकर केरल के लोगों ने विनाशकारी काम किया है।

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर सीधा हमला बोलते हुए उन्हें नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) पर दस लाइनें बोलने की चुनौती दी है।

हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने लोगों से एक विवादित अपील करते हुए कहा कि कांग्रेस के नेताओं के पास बहुत पैसा है, यदि वे आपको पैसा दे रहे हैं तो ले लीजिये। चूंकि आपको यह रकम मेरी वजह से मिल रही है इसलिए वोट मुझे दीजिएगा। लेकिन मैं कांग्रेस से कहता हूं कि मेरी कीमत केवल 2000 रुपये नहीं है। मेरी कीमत इससे ज्‍यादा की है इसलिए कांग्रेस को यह रेट बढ़ाना चाहिए। हालांकि इस बयान के बाद कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत की है।

अब्दुल्ला आजम के निर्वाचन के खिलाफ तत्कालीन बसपा नेता नवाब काजिम अली ने याचिका दायर की थी। नवाब अब कांग्रेस में हैं। अली ने अपनी याचिका में कहा था, “साल 2017 में चुनाव के समय अब्दुल्ला की आयु 25 साल से कम थी, लेकिन चुनाव लड़ने के लिए उन्होंने फर्जी दस्तावेज पेश किए।”

शाहीनबाग में धरने की व्यवस्था संभाल रहे सलमान राजनीतिक सवाल पूछे जाने पर काफी नाराज हो गए। उन्होंने कहा कि अगर कोई नेता न भी आए तो भी उनका प्रदर्शन चल सकता है।

प्रियंका ने अपने शुभकामना संदेश में लिखा है, प्रिय भारती और आशीष, वैवाहिक जीवन में बंधने के लिए आप दोनों को बहुत-बहुत बधाई। मेरी शुभकामना है कि आप दोनों का वैवाहिक जीवन खुशियों से भरा हो और आप दोनों एक दूसरे के अच्छे दोस्त बनकर एक भरपूर जिंदगी गुजारें।

कांग्रेस में बच्चों का मामला भी उलझा हुआ है। चांदनी चौक में जहां एक और कांग्रेस के दिग्गज नेता जेपी अग्रवाल अपने बच्चों के लिए टिकट मांग रहे हैं तो वहीं यहां से वर्तमान में विधायक अलका लांबा भी जोर आजमा रही हैं।

अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर वैसे तो कांग्रेस हमेशा मोदी सरकार पर निशाना साधती रही है लेकिन जब उसके खुद के नेता इस आजादी का फायदा उठाकर जनता द्वारा चुने गए प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का प्रयोग करते हैं तो कांग्रेस आलाकमान चुप्पी साध लेती है।