कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कांग्रेस पार्टी (Congress Party) ने कई समितियों का गठन किया है जो विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियों पर विचार करेगा। लेकिन किसी भी समिति में पार्टी के वरिष्ठ नेता जितिन प्रसाद (Jitin Prasad) का नाम नहीं है, जो उनके लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है।

राम की नगरी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन के मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह अपनी ही पार्टी के भीतर अकेले पड़ गए हैं।

पटेल का यह बयान अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम की पूर्वसंध्या पर आया है। विपक्षी दल के 26 वर्षीय नेता ने कहा, '' मैं आशा करता हूं कि मंदिर भारत और गुजरात में राम राज्य लाएगा।''

मुख्यमंत्री के नाम इस पत्र में महासचिव प्रियंका गांधी ने लिखा, "कानपुर, गोंडा, गोरखपुर की घटनाएं आपके संज्ञान में होंगी। मैं गाजियाबाद के एक परिवार की पीड़ा की तरफ आपका ध्यान खींचना चाहती हूं। मेरी इस परिवार से बात हुई है।"

जम्मू एवं कश्मीर प्रशासन द्वारा अब्दुल्ला और मुफ्ती सहित चार राजनेताओं पर पीएसए लगाने के एक दिन बाद कांग्रेस महासचिव का यह बयान आया है। ज्ञात हो कि पांच फरवरी को उनकी नजरबंदी को पांच महीने पूरे हो गए।

लखनऊ में कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस कार्यक्रम के बाद कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी के परिवार से मिलने के लिए निकली थीं, लेकिन लखनऊ पुलिस ने 1090 चौराहे पर उनका काफिला रोक लिया था।