कांग्रेस वर्किंग कमेटी

गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) सरीखे वरिष्ठ नेताओं से राहुल गांधी (Rahul Gandhi) इस चिट्ठी प्रकरण के बाद नाराज नजर आए थे। उसका असर भी इस नई टीम के गठन में साफ नजर आ रहा है।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बयान ने पार्टी के अंदर घमासान तेज कर दिया है। पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) इसको लेकर नाराज हैं तो वहीं रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने सिब्बल को झूठा करार दे दिया है।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इन सभी 23 नेताओं की आलोचना की है। राहुल गांधी ने कहा है कि इन सभी नेताओं की बीजेपी से साठगांठ हैं।

प्रवासी मजदूरों और बेरोजगारों को लेकर सोनिया गांधी ने कहा कि, प्रवासी मजदूर अब भी फंसे हुए हैं, बेरोजगार हैं और घर लौटने को बेताब हैं। वह सबसे कठिन दौर से गुजर रहे हैं।

2019 लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त मिलने पर राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष से इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस अबतक अपने नए नेता का चयन नहीं कर पाई है। जिसके बाद अब संभावना है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) शनिवार यानी आज अंतरिम अध्यक्ष के रूप में नए नेता का ऐलान कर सकती है।

इस बार कांग्रेस ने मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम समेत कई नेताओं के बेटों को टिकट दिए थे। जिसकी वजह से उनके प्रचार करने का दायरा काफी सीमित रहा।

कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में पार्टी की करारी हार के कारणों की समीक्षा भी की जाएगी, जहां पार्टी ने 5 महीने पहले ही सरकार बनाई है।