कासिम सुलेमानी

गौरतलब है कि 3 जनवरी को बगदाद अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास एक अमेरिकी हवाई हमले के बाद मध्य पूर्व में तनाव बढ़ गया। हमले में ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स के कुद्स फोर्स के पूर्व कमांडर ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई।

ईरान-अमेरिका तनाव के बीच एक बार फिर बगदाद पर रॉकेट दागे जाने की खबर आई है। इराक स्थित अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट से हमला किया गया। रॉकेट अमेरिकी दूतावास से करीब 100 मीटर दूर गिरी।  

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'इराक की मौजूदा स्थिति को देखते हुए, भारतीय नागरिकों को सलाह दी जाती है कि वे अगली अधिसूचना जारी होने तक इराक की सभी गैर-आवश्यक यात्रा से बचें। इराक में रहने वाले भारतीय नागरिकों को सलाह दी जाती है कि वह सतर्क रहें और इराक के अंदर यात्रा करने से बचें।'

ईरान की आपात चिकित्सा सेवा के प्रमुख पीरहुसैन कौलीवंद ने इससे पहले फोन पर देश की सरकारी टीवी से भगदड़ की पुष्टि की। उन्होंने कहा, "बदकिस्मती से अंतिम संस्कार के दौरान भगदड़ के कारण हमारे कुछ हमवतन साथी घायल हो गए और कुछ लोगों की मौत हो गई है।"

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दिवंगत ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी पर नई दिल्ली में आतंकवादी हमले की साजिश रचने का आरोप लगाया है। ट्रंप ने शुक्रवार को फ्लोरिडा में अपने मार-आ-लागो रिसोर्ट में कहा, "सुलेमानी ने अपने पागलपन में निर्दोष लोगों की हत्या की, नई दिल्ली और लंदन में आतंकी हमलों की साजिश रची।"

अमेरिका ने इराक में लगातार दूसरे दिन हवाई हमला किया है। इस हमले में अबतक की रिपोर्ट के मुताबिक 6 लोग मारे गए हैं। शुक्रवार को हुए हमले में अमेरिका ने ईरान के टॉप मिलिट्री जनरल कासिम सुलेमानी को बगदाद में मार गिराया था।