कुलदीप सेंगर

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और छह अन्य लोगों को उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या करने पर 10 साल कैद की सजा सुनाई है। गौरतलब है कि सेंगर पहले से ही नाबालिग से दुष्कर्म करने के आरोप में उम्रकैद की सजा काट रहा है।

फैसला सुनाते वक्त ये भी देखा गया कि दोषी कुलदीप सेंगर जज के सामने हाथ जोड़कर खड़े रहे। इसके साथ ही कोर्ट ने सीबीआई को पीड़िता और उसके परिवार को आवश्यक सुरक्षा प्रदान करने का आदेश दिया है।

परिवारिक सूत्रों का कहना है कि दाह संस्कार दोपहर को होगा। मनोज सेंगर दिल्ली में रहकर कुलदीप सेंगर के मामलों को देख रहा था। रायबरेली में 28 जुलाई के दुर्घटना मामले में वह भी ओरोपी था।

बताया जा रहा है कि उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के चाचा जेल में बंद हैं। चाचा से मिलने के लिए पीड़िता, उसकी चाची और वकील महेंद्र सिंह रायबरेली जेल जा रहे थे। इसी दौरान एक ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी।