केंद्र राज्य मंत्री

पुरी ने राजघाट समाधि समिति के दो सदस्यों के चयन का प्रस्ताव पेश किया और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के औपचारिक ध्वनि मत लाने से पहले ही पुरी बहिर्गमन कर गए।