केजरीवाल

केजरीवाल ने बताया कि जहां पिछले सप्ताह अस्पताल में लगभग 2300 नए मरीज़ थे।वहीं अब अस्पताल में मरीज़ों की संख्या 6200 से 5300 तक कम हुई है।

इस फैसले को लेकर केजरीवाल ने बताया कि, कुछ प्राइवेट हॉस्पिटल जो स्पेशल सर्जरी करते हैं जो कहीं और नहीं होती उनको करवाने देशभर से कोई भी दिल्ली आ सकता है, उसे रोक नहीं होगी।

देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। नए मामलों की संख्या में तेजी के साथ वृद्धि हो रही है। देश की राजधानी दिल्ली में भी लगातार हजारों की संख्या में कोरोना वायरस के मरीजों की पुष्टि हो रही है।

एक यूजर ने केजरीवाल को टैग करते हुए लिखा है कि, "ऐसे समय जब चीन सिक्किम पर अपना दावा कर रहा हैं, केजरीवाल सरकार का ये विज्ञापन देश के साथ धोखा हैं, गद्दारी हैं

भाजपा सांसद ने कहा, "केजरीवाल सरकार सभी मोर्चो पर विफल रही है। वह राशन वितरित करने में भी विफल रहे। राशन वितरण का जो उन्होंने लिंक जारी किया वह 15 दिनों तक काम नहीं कर रहा था। आज लोगों के पास टोकन नंबर हैं, लेकिन समय से उन्हें राशन नही मिल पा रहा है।"

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली पुलिस ने इस पूरे प्रकरण में आरोप-पत्र दायर करने के लिए तीन साल का समय लिया है। अब दिल्ली सरकार का कानूनी मामलों से संबंधित विभाग इस विषय का अध्ययन कर रहा है।

आम आदमी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल सॉफ्ट राष्ट्रवाद की राह पर हैं। वह दूसरे प्रदेशों में आम आदमी पार्टी के विस्तार के लिए इसी राष्ट्रवाद को हथियार बनाने जा रहे हैं।

माना जा रहा है कि प्रशांत किशोर बीजेपी और जेडीयू को हराने के लिए विपक्षी पार्टियों का सहयोग कर सकते हैं। प्रशांत किशोर ने जदयू में रहते अपना काडर भी तैयार कर लिया था।

आम आदमी पार्टी (आप) ने शनिवार को कहा कि दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने रामलीला मैदान में रविवार को होने वाले अरविंद केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के शपथग्रहण समारोह में स्कूलों के शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों को निमंत्रण दिया है। पार्टी ने कहा कि शिक्षक बीते पांच वर्षो में दिल्ली के कायाकल्प के ध्वजवाहक रहे हैं।

पिछली बार भी अरविंद केजरीवाल ने रामलीला मैदान से ही मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने जा रहे आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने इस बार भी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह को एक सार्वजनिक आयोजन का रूप देने का निर्णय लिया है।