केजरीवाल

वैसे केजरीवाल ने कुछ दिन पहले भी NRC को लेकर एक बयान दिया था जिसपर काफी बवाल मचा था। बता दें कि 26 सितंबर को एनआरसी के मुद्दे पर केजरीवाल ने कहा था कि अगर राष्ट्रीय राजधानी में NRC लागू हुआ तो सबसे पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को शहर छोड़ना होगा।

केंद्रीय स्वास्थ मंत्री को आमंत्रित करते हुए केजरीवाल ने कहा, "मैं आपकों व सभी केंद्र सरकार के मंत्रियों को अभियान में भाग लेने के लिए आमंत्रित करता हूं। आपकी भागीदार बहुत से दूसरे लोगों को भाग लेने के लिए प्रेरित करेगी।"

देखें दिन की पांच बड़ी खबरें न्यूजरूमपोस्ट की टीम के साथ

केजरीवाल के इस प्रस्ताव पर पूर्व मेट्रो प्रमुख और मेट्रो मैन कहे जाने वाले ई श्रीधरन ने कहा है कि दिल्ली सरकार का महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त सेवा देना चुनावी हथकंडा है।

दिल्ली में सार्वजनिक भूमि पर मस्जिदों के बढ़ते निर्माण को लेकर पश्चिम दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने उप राज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर जांच की मांग की है।

दिल्ली मेट्रो के पहले प्रबंध निदेशक ई श्रीधरन ने केजरीवाल द्वारा दिल्ली मेट्रो में महिलाओं को मुफ़्त यात्रा की सुविधा देने को मेट्रो के लिए ठीक नहीं बताया है।

इससे पहले 30 अप्रैल को अदालत ने केजरीवाल और अन्य तीन नेताओं को 7 जून तक कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया था लेकिन केजरीवाल के वकील मोहम्मद इरशाद ने कोर्ट को बताया था कि पार्टी दिल्ली और हरियाणा में राजनीतिक कार्यक्रमों में व्यस्त हैं।

जहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी ही पार्टी के बड़े नेताओं पर बरस पड़े हैं वहीं आम आदमी पार्टी के एक व्हाट्सऐप ग्रुप से अलका लांबा को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

केजरीवाल ने पंजाब में समाचार चैनल से कहा था, "भाजपा इंदिरा गांधी की तरह मेरे अपने ही पीएसओ (निजी सुरक्षा अधिकारी) से एक दिन मेरी हत्या करवा देगी। मेरे खुद के सुरक्षा अधिकारी भाजपा को रिपोर्ट करते हैं। भाजपा मेरी जान के पीछे पड़ी है, वे लोग एक दिन मेरी हत्या करवा देंगे।"

केजरीवाल ने सवाल उठाते हुए कहा कि "ये हमले क्यों हो रहे हैं, मेरा कसूर क्या है...मैंने क्या गलत कर दिया है, मेरे को कोई क्यों मारेगा।" ट्विटर पर आम आदमी पार्टी के अकाउंट से इसका वीडियो भी अपलोड किया गया है।