कैप्टन और सिद्धू में रार

सूबे के मुख्यमंत्री(Captain Amarinder Singh) ने भी साफ कर दिया है कि जो लोग पार्टी के लिए एनएसयूआइ(NSUI) से काम कर रहे हैं, उनकी जगह पर 2017 में आने वाले को प्रधान कैसे बनाया जा सकता है।

दरअसल सिद्धू के पास पहले शहरी विकास मंत्रालय था, बाद में कैप्टन से तकरार के चलते सिद्धू को बिजली विभाग का मंत्री बना दिया गया। जिसके बाद से नाराजगी ऐसी बढ़ी कि सिद्दू ने अभी तक बिजली विभाग का चार्ज नहीं लिया है।