कोविड-19

वीडियो संदेश में प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना से जंग में देश को एकजुट करने के लिए रविवार को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए मोमबत्ती या दीया जलाने की अपील की है। पीएम मोदी की इस पहल को बॉलीवुड सेलेब्स का सपोर्ट मिल रहा है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग द्वारा जारी नवीनतम आंकड़ों के हवाले से कहा दुनियाभर में अभी तक कुल 10,15,403 लोग महामारी से संक्रमित पाए गए हैं, जबकि इसके चलते 53,030 लोगों की मौत हुई है।

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने पिछले सप्ताह ही नए कोरोनावायरस टेस्ट किट को मंजूरी प्रदान की है। अधिकारियों ने दावा किया है कि इससे मात्र 15 मिनट में सटीक जांच परिणाम सामने आ जाते हैं।

उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वीडियो संदेश जारी कर कहा, "सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों को मत तोड़ें, कृपया इसे हर कीमत पर बनाए रखें, केवल इसी के माध्यम से हम कोविद -19 (कोरोनावायरस संक्रमण) को हरा सकते हैं।"

इंदौर में तो टेस्ट करने की टीम पर ही हमला बोल दिया गया। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर का है जहां लॉकडाउन का उल्लंघन करने से मना करने पर पुलिस पर भीड़ ने लाठी-डंडे व सरियों से जानलेवा हमला कर दिया।

पीएम मोदी ने कहा कि, हम अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, कोई भी अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासी, एक ही संकल्प के साथ कृतसंकल्प हैं।

वीडियो संदेश के जरिए पीएम मोदी ने कहा कि "घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में, खड़े रहकर, 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं। और उस समय यदि घर की सभी लाइटें बंद करेंगे, चारो तरफ जब हर व्यक्ति एक-एक दीया जलाएगा, तब प्रकाश की उस महाशक्ति का ऐहसास होगा, जिसमें एक ही मकसद से हम सब लड़ रहे हैं, ये उजागर होगा।"

राजस्थान के टोंक में 5 लोगों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है, ये कोरोना मरीज़ों के करीबी हैं(जो तबलीगी ज़मात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे)। राजस्थान में मामलों की संख्या अब 138 है इसमें 2 इटली के नागरिक और 14 तबलीगी ज़मात के कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोग हैं।

देश के कई राज्यों में मरीजों की संख्या में तेजी के साथ बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। शुक्रवार को राजस्थान में कोरोना वायरस के पांच नए मामले पाए गए हैं। ये वो लोग हैं जो दिल्ली से आए तबलीगी जमात के लोगों के संपर्क में आए थे।

ईरान में फंसे 1000 तीर्थयात्रियों के जत्थे में से 750 व्यक्तियों को वापस लाया जा चुका है। केंद्र ने कहा कि फिलहाल कौम में 250 तीर्थयात्री हैं, जो या तो कोरानावायरस से ग्रसित हैं या उन व्यक्तियों के रिश्तेदार हैं, जिन्होंने स्वेच्छा से कोम वापस लौटने का फैसला किया है।