कोविड-19

मध्य प्रदेश में अब तक कोरोना के 1164 मरीज सामने आए हैं। इंदौर में गुरुवार को सामने आए 244 नए मामलों के साथ कोरोना संक्रमण की कुल संख्या 842 पहुंच चुकी है।

विश्व हिन्दू परिषद(विहिप) के केन्द्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिन्दुओं के साथ हो रहे भेदभाव को लेकर क्षोभ व्यक्त किया और उनके जीवन रक्षार्थ संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग तथा भारत सरकार से अपील की है।

गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया कि सरकार ने पहले भी 6 फरवरी, 30 मार्च को इसको लेकर जानकारी दी थी, ऐसे में लोग इसपर सतर्कता बरतें। सरकार ने कहा है कि लोग अगर इसका इस्तेमाल कर भी रहे हैं, तो कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें। लगातार पासवर्ड बदलते रहें, कॉन्फ्रेंस कॉल में किसी को अनुमति देते हुए सतर्कता बरतें।

बयान में कहा गया है , "राष्ट्र के साथ इस खेल से जुड़े सभी लोगों की सुरक्षा और स्वास्थ हमारी प्राथमिकता है। इसलिए बीसीसीआई ने फ्रेंचाइजियों , प्रसारणकर्ता, प्रायोजकों तथा शभी हितधारकों के साथ मिलकर यह फैसला लिया है कि आईपीएल-2020 सीजन तभी होगा जब हालात सुरक्षित और सही होंगे।"

प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को इन परिवारों की कोशिशों की सराहना करते हुए अद्भुत कार्य बताया। बताया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, " विषम परिस्थितियों में गाड़ोलिया समाज द्वारा किए जा रहे ये नेक कार्य हर भारतवासी को प्रेरित करने वाले हैं।"

सुपरस्टार सलमान खान लगातार इस महामारी पर वीडियो और फोटो शेयर कर जागरुकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। हाल ही में सलमान खान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें वह डॉक्टर्स और पुलिस पर पत्थर बरसाने वालों पर जमकर गुस्सा करते नजर आ रहे हैं।

एक तरफ योगी ने जहां प्रदेश में लॉकडाउन को सफलता पूर्वक लागू करवाने एवं गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की अध्यक्षता 11 कमेटियों का गठन किया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित कीजिए। गोदाम में अनाज पड़े हैं। जिनके पास राशनकार्ड नहीं हैं उन्हें भी राशन दिया जाना चाहिए। न्याय योजना को अपनाइये। सीधे गरीबों के खाते में पैसे भेजिए

सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह भी निर्देश दिया कि पूरे प्रदेश में सुनिश्चित किया जाए कि स्वास्थ्य टीम के साथ पुलिस टीम भी मौके पर जाए, साथ ही लॉकडाउन का अनुपालन शक्ति से कराया जाए।

इस नए तरीके से अणुओं के बीच संपर्क का पता लगाया जा सकता है। इसको लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि कोविड-19 (COVID-19) पर लगाम लगाने के लिए जांच का दायरा बढ़ाना महत्वपूर्ण है।