कोविड-19

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के दौरान मास्क पहने नजर आये।

मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने सभी नोडल अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि लॉकडाउन के दौरान अन्य प्रांतों में सेवारत मजदूरों व कर्मियों के वेतन व मजदूरी का नियोक्ता से भुगतान सुनिश्चित कराया जाए।

कोरोना संकट को देखते हुए 24 मार्च को देश में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। 25 मार्च से शुरू हुए देशव्यापी लॉकडाउन का आखिरी दिन 14 अप्रैल है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक कर रहे हैं।

श्रम मंत्रालय ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए कहा कि अंशधारकों को उनके द्वारा की गई निकासी का पैसा मिलना शुरू हो गया है। ईपीएफओ ने पिछले दस दिन में इन दावों का निपटान किया है।

इटली विश्व में महामारी से बुरी तरह प्रभावित होने वाले देश में से एक है। देश में संक्रमण के चलते 19 हजार के करीब मौतें हुईं हैं, जबकि कुल एक लाख 50 हजार के करीब लोग कोविड-19 से संक्रमित हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे में देश में 1035 नए कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है। भारत में 24 घंटों के दौरान बढ़े संक्रमित मरीजों का यह अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है।

अमित शाह ने BSF को सिर्फ चौकन्ना रहने के लिए ही नहीं बल्कि BSF द्वारा किए गए अच्छे कार्यों की सराहना भी की। बता दें कि लॉकडाउन के दौरान बीएसएफ बॉर्डर की सुरक्षा के साथ लोगों को जागरूक भी कर रहा है।

हालांकि आज की मीटिंग से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई बुधवार सर्वदलीय बैठक में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के संकेत मिल चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी ने कहा था कि कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई है।

कोरोना वायरस से मौत के मामले में इटली अभी भी सबसे ऊपर बना हुआ है। कोरोना वायरस ने इस देश में कहर बरपा दिया है। जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक इस देश में अबतक 18849 लोगों की मौत हो चुकी है।

प्रशांत शर्मा के मुताबिक, "इंटरैक्टिव टूल के जरिए अपना परीक्षण करने वाले लोगों को सुझाव भी मिलेगा। मतलब कि उन्हें हेल्पलाइन पर फोन करना चाहिए या फिर अस्पताल जाना चाहिए या घर पर रहकर सावधानी बरतना चाहिए।"