गुरपतवंत सिंह पन्नू

संसद भवन की सुरक्षा को बुधवार को भेदने वाले आरोपियों से क्या खालिस्तानी आतंकियों के तार जुड़े हुए हैं? क्या कनाडा और अमेरिका से खालिस्तानी आंदोलन चलाने वाले सिख्स फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू से इनका कोई संबंध है? ये दो अहम सवाल अब विभिन्न वजहों से चर्चा में हैं।

अमेरिका ने खालिस्तानी आतंकी और सिख्स फॉर जस्टिस (एसएफजे) के नेता गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने में भारत के एक अधिकारी और एक नागरिक निखिल गुप्ता उर्फ निक पर आरोप लगाया है। निखिल पर एक भारतीय अफसर से संबंध होने के बारे में भी अमेरिका ने कहा है।

खुफिया सूत्रों के हवाले से चैनल सीएनएन न्यूज18 ने खबर दी है कि गुरपतवंत सिंह पन्नू अब सांप्रदायिक कार्ड खेल रहा है। वो हिंदू, सिख और मुस्लिमों के बीच विभेद पैदा करने की कोशिश कर रहा है। पन्नू भारत में मोस्ट वांटेड आतंकियों की लिस्ट में शामिल है। उसे अमेरिका और कनाडा में शह मिली हुई है।

World Cup Final: गौरतलब है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) अपने आयोजनों के दौरान इस प्रकृति की किसी भी अनधिकृत गतिविधि की अनुमति नहीं देती है। भारतीय अधिकारियों द्वारा भी इस तरह की कार्रवाइयों पर सख्ती से रोक लगाई गई है।

ट्रूडो ने पिछले महीने बिना किसी सबूत के भारत पर खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कराने का आरोप लगाया था। जस्टिन ट्रूडो के इस आरोप की वजह से भारत और कनाडा के बीच रिश्ते खराब हो गए हैं। अब गुरपतवंत सिंह पन्नू का ताजा बयान और ट्रूडो की तारीफ भारत के आरोपों को सही ठहरा रहे है्ं।

अब इस युद्ध ने खालिस्तानी विवाद को भी गरम कर दिया है। दरअसल, एक वीडियो सामने आया है, जो कि खालिस्तानी मुल्क पैरोकारी करने वाला गुरपतवंत सिंह पन्नू भारत को चेतावनी देते हुए नजर आ रहा है, जिसमें वो यह हिदायत देता हुआ नजर आ रहा है कि भारत को इस हमले से सीख लेनी चाहिए।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक फ्लाईओवर के नीचे ‘दिल्ली बनेगा खालिस्तान’ जैसे नारे लिखे गए थे। एक राहगीर की नजर इन नारों पर पड़ी। उसने फोन कर पुलिस को जानकारी दी। जिसके बाद मौके पर दिल्ली पुलिस के सिपाही पहुंचे। फिर केस दर्ज कर आरोपियों की धरपकड़ की तैयारी के लिए टीम बनाई गई।

India-Canada Row: कनाडाई पीएम जस्टिन ट्रूडो द्वारा खालिस्तानी आतंकी निज्जर की हत्या में भारत का हाथ होने की बात कहे जाने के बाद से ही सिख फॉर जस्टिस (SJF) चीफ गुरपतवंत सिंह पन्नू कनाडा में रह रहे भारतीयों पर हमलावर है और उन्हें देश छोड़ने के लिए धमकी दे रहा है। अब हिन्दुओं को कनाडा छोड़ने की धमकी देने वाले आतंकी पन्नू को वहां के ही नेता प्रतिपक्ष ने आईना दिखाया है।

India-Canada Tension: खबर सामने आ रही है कि कनाडा में भारत के खिलाफ साजिश रची जा रही है। सूत्रों के हवाले से सामने आई खबर की मानें तो ISI के कनाडा में मौजूद एजेंट्स ने कनाडा में खालिस्तानी ग्रुप के लोगों के साथ एक सीक्रेट मीटिंग की है।

गुरपतवंत सिंह पन्नू जिस एसएफजे का प्रमुख है, उसे भारत ने आतंकी संगठन घोषित कर प्रतिबंध लगा रखा है। पन्नू अपना सारा भारत विरोधी कामकाज कनाडा और अमेरिका से चलाता है। बीते दिनों जब हरदीप सिंह निज्जर की हत्या हुई थी, तब कुछ दिनों के लिए गुरपतवंत सिंह पन्नू अंडरग्राउंड हो गया था।