गृह मंत्री अमित शाह

ओम माथुर ने ने कहा है कि राज्य सरकारों के नीतिगत विरोध के कारण प्रवासी मजदूर सैकड़ों किमी पैदल जाने को मजबूर हो रहे हैं। ऐसे में 1000 करोड़ रूपए के फंड का इस्तेमाल करते हुए प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने की व्यवस्था खुद केंद्र सरकार करे।

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस बैठक में कई मुद्दों पर खुलकर चर्चा हुई तो वहीं प्रधानमंत्री के साथ बैठक में चार राज्य के सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने की भी मांग की।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत इस संकट से अपने आपको बचाने में बहुत हद तक सफल हुआ है। राज्यों ने जिम्मेदारी निभाई है, लेकिन लोगों के बीच दो गज की दूरी कम हुई तो संकट बढ़ेगा। लॉकडाउन लागू करने में सभी की भूमिका महत्वपूर्ण रही।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कहा कि हमारे देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए आईएमए ने 22 के व्हाइट अलर्ट और 23 तारीख के ब्लैक डे के विरोध-प्रदर्शन को वापस लेने का फैसला किया है। डॉक्टरों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी बैठक में मौजूद रहे।

दिल्ली-एनसीआर में फंसे देश भर के मजदूरों को यहां से निकालने पर अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्री अलग-अलग बयान जारी कर रहे हैं। बिहार के सीएम नीतीश कुमार कहा है कि जो मजदूर जहां है अभी वहीं रहें

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ''शहीद दिवस पर मां भारती के महान सपूतों वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को कोटि-कोटि नमन। देश के लिए उनका बलिदान कृतज्ञ राष्ट्र सदा याद रखेगा। जय हिंद!''

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र से 'जनता कर्फ्यू' के लिए अपील की है। उन्होंने कहा है कि सभी लोग रविवार सुबह सात बजे से लेकर रात 9 बजे तक घरों में ही रहें।

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में अभी समय है लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस सिलसिले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा एक दिन के दौरे पर आज कोलकाता पहुंच रहे हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दो दिवसीय दौरे पर आज (शुक्रवार को) ओडिशा पहुंच रहे हैं। अमित शाह आज शाम चार बजे भुवनेश्वर के जनता मैदान में एक बड़ी जनसभा को संबोधित करेंगे।

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की करारी हार हुई है। इस हार से भाजपा का शीर्ष नेतृत्व सकते में है। पूरे दमखम और केंद्रीय नेतृत्व की पूरी फौज चुनावी समर में झोंकने के बावजूद भाजपा को महज 8 सीटों पर जीत मिली।