गैंगस्टर विकास दुबे

गौरतलब है कि दो जुलाई की रात को बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के घर दबिश देने पहुंची कानपुर पुलिस (Kanpur) की टीम पर घात लगाकर बैठे गैंगस्टर और उसके गुर्गों ने हमला कर दिया था, जिसमें सीओ देवेंद्र मिश्रा (Devendra Mishra) सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।

इस ऑडियो को लेकर बताया जा रहा है कि,ऑडियो गैंगस्टर विकास दुबे के घर दबिश से पहले सीओ देवेंद्र मिश्र और एसपी ग्रामीण बीके श्रीवास्तव की बातचीत का है।

नरसंहार की रात यादव ने सभी पुलिसकर्मियों के शव एकत्र किए थे और उन्हें आग लगाने की कोशिश की थी। इस मामले में अब तक सात व्यक्तियों को गिरफ्तार कि जा चुका है, जबकि दुबे समेत छह लोग विभिन्न पुलिस मुठभेड़ों में मारे गए हैं।

रिचा ने कहा कि, बिकरू शूटआउट में विकास ने जो किया वो दंडनीय अपराध था। उन्होंने टीवी पर न्यूज देखकर कहा था कि अब वो एक छत के नीचे नहीं रहेंगे। यह कृत्य भयानक था।

रिचा ने कहा, "मुझे नहीं पता कि उस रात बिकरू में क्या कुछ हुआ। मेरे पति मर चुके हैं, लेकिन मेरी उम्मीद जिंदा है।" रिचा ने कहा कि विकास दुबे उनके भाई राजू निगम के एक अच्छे मित्र थे। उन्होंने कहा, "मेरी उनसे मुलाकात 1990 में हुई और मेरे भाई ने ही हमारी शादी कराई।"

बता दें कि 30 जून को अमर दुबे की शादी हुई थी। इस शादी में विकास दुबे मौजूद था। वह कई फोटो में दिखाई दे रहा है। विकास दुबे के साथ ही अमर दुबे की शादी में चौकी इंचार्ज केके शर्मा भी मौजूद था।

कानपुर कांड का आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के कानपुर में शुक्रवार को मुठभेड़ में ढेर होने के बाद अब केंद्र सरकार के प्रवर्तन निदेशालय ने उसके काले कारोबार की जांच शुरू कर दी है।

बता दें कि कानपुर कांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के साथ एनकाउंटर में 10 जुलाई की सुबह मार दिया गया था।

कानपुर कांड का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के साथ एनकाउंटर में 10 जुलाई की सुबह मार दिया गया था। एनकाउंटर के बाद अब गैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति की जांच होगी।

जब विकास का शव शुक्रवार की शाम सवा सात बजे भैरव घाट विद्युत शवदाह गृह पहुंचा अंतिम संस्कार में इस कुख्यात बदमाश का सिर्फ एक रिस्तेदार ही पहुंचा।