चंद्रबाबू नायडू

देखिए चंद्रबाबू नायडू ने लोगों से मुलाकात कर क्या कहा

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण की वोटिंग अभी जारी है। तो वहीं विपक्ष अभी से सरकार बनाने को लेकर जोड़तोड़ में जुटा है। बता दें कि पूरी विपक्षी एकता का जिम्मा इस बार आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने लिया है। महज 24 घंटे में ही वो कई नेताओं से दो बार मिल चुके हैं।

लोकसभा चुनावों का प्रचार थमने के बाद रविवार को अंतिम चरण के लिए वोट डाले जाएंगे। इस बीच नई सरकार बनाने को लेकर अभी से विपक्ष की मोर्चेबंदी तेज हो गई है। इसी कड़ी में आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री चंद्रबाबू नायडू शनिवार को नई दिल्‍ली में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के साथ बैठक की।

विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं ने मंगलवार को ईलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम)-वीवीपैट पर मंगलवार को एक बार फिर हमला किया और कहा कि इनमें गड़बड़ियों की पूरी संभावना है और इनकी प्रोग्रामिंग कर इनमें गड़बड़ी जा सकती है।

चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि ईवीएम को लेकर उनकी लड़ाई यहीं खत्म नहीं होगी, बल्कि वह अन्य राज्यों में जाएंगे व दूसरी पार्टियों के नेताओं से मिलेंगे और लोगों में जागरूकता लाने के लिए जनसभाएं करेंगे। 

सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को चुनाव आयोग को हर विधानसभा क्षेत्र के कोई भी पांच मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी पर्चियों को ईवीएम से मिलान करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली के आंध्र प्रदेश भवन में आज मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने और अन्य वादों को पूरा न करने की वजह से केंद्र सरकार के खिलाफ एक दिन की भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। उनके इस धरने को विपक्षी दलों का भी साथ मिल रहा है। इसी बीच नायडू के धरनास्थल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक विवादित पोस्टर दिखाई दिया है।

तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने राज्य को विशेष दर्जा देने और बंटवारे के वक्‍त किए गए वादों को पूरा करने की मांग को लेकर दिल्ली के आंध्र भवन में भूख हड़ताल शुरू कर दी है। इसके बाद मंगलवार को वह राष्‍ट्रपति को अपनी मांगों का एक ज्ञापन सौंपेंगे।  इस बीच पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने धरनास्थल पर पहुंचकर नायडू की मांग का समर्थन किया।

गुंटूर में एक जनसभा को संबोधित कर रहे हैं। इसके साथ ही वो कर्नाटक के अलावा पीएम तमिलनाडु के तिरुपुर और कर्नाटक के हुबली में भी रैलियां करेंगे।

सत्ताधारी तेदेपा द्वारा बीजेपी के साथ गठबंधन तोड़ने के बाद प्रधानमंत्री की राज्य की यह पहली यात्रा है। वहीं मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से रविवार को पूरे राज्य में विरोध प्रदर्शन करने को कहा है।