चंपत राय

Ram Temple: चंपत रा(Champay Rai) ने कहा कि, नींव के ऊपर से लेकर पूरे मंदिर में करीब चार लाख घन मीटर पत्थर का इस्तेमाल होगा। उन्‍होंने उम्मीद जताई कि, संभव है कि, जून में मंदिर(Ram Temple) का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

Ayodhya Ram Mandir: VHP की तरफ से बताया गया है कि, इस अभियान के तहत पीएम(PM), राष्ट्रपति(President) और उपराष्ट्रपति से भी चंदा लिया जाएगा। सरकार से पैसा नहीं लिया जाएगा। सरकार से सहयोग की अपेक्षा है।

अयोध्या(Ayodhya) में मंदिर निर्माण(Ram Mandir) का कार्य आगे बढ़ रहा है। शुक्रवार को परीक्षण के लिए भूमि के नीचे सौ फुट गहराई तक का पहला स्तम्भ तैयार हो चुका है।

चंपत राय(Champat Rai) ने कहा कि अयोध्या में भगवान राम का मंदिर(Ram Mandir) 36 से 40 महीने में बनकर तैयार हो सकता है। मंदिर निर्माण में एक ग्राम भी लोहे का प्रयोग नहीं होगा।

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि, "आप अपना पैसा सीधे तौर पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अकाउंट में ट्रांसफर करा सकते हैं।"

राम जन्म भूमि भूजन कार्यक्रम को लेकर रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

चंपत राय ने एक वीडियो जारी करके इस बयान का खंडन किया है कि पांच अगस्‍त को कोई टाइम कैप्‍सूल जमीन के नीचे रखा जाएगा। राय ने कहा, 'समाचार आ रहा है कि 5 अगस्त को कोई टाइम कैप्सूल जमीन के नीचे रखा जाएगा। 

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की यहां शनिवार को हुई बैठक में मंदिर निर्माण के लिए शिलान्यास की तिथि तय कर ली गई। ट्रस्ट ने शिलान्यास के लिए तीन और पांच अगस्त की तिथि तय की और इससे संबंधित प्रस्ताव पीएमओ को भेज दिया है।

अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम फिलहाल टल गया है। भूमिपूजन टालने का यह फैसला भारत-चीन सीमा पर तनाव के चलते श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने लिया है।

रामलला के ऑनलाइन दर्शन की हर तरफ से मांग उठ रही है। ट्रस्ट तक भी यह बातें पहुंच रही हैं। इसे लेकर मंथन हो रहा है। लेकिन अभी इसे लेकर संशय है। ट्रस्ट का मानना है कि उसके पास जो भी पैसा है वह मंदिर निर्माण के लिए है।