चीनी विदेश मंत्रालय

चीन से सीमा विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अचानक लेह पहुंचे। यहां उन्होंने अग्रिम पोस्ट पर जवानों से मुलाकात की और मौजूदा हालातों का जायजा लिया। ऐसे में चीन पीएम मोदी के लेह दौरे से घबरा गया है।

चीन के सामान का बहिष्कार करने की बात जबसे शुरू हुई है। चीन के तेवर थोड़े नरम दिख रहे हैं हालांकि चीनी मीडिया इसपर भारत को धमकी देने से बाज नहीं आ रही है।

सूत्रों के मुताबिक चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 'चीन और भारत बातचीत और परामर्श के माध्यम से मुद्दों को ठीक से हल करने में सक्षम हैं।'

जयशंकर ने 2009 से 2013 तक बीजिंग में भारत के राजदूत के रूप में कार्य किया था। उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने 2017 में डोकलाम में दोनों देशों के बीच सैन्य गतिरोध को सुलझाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।