चीनी सेना

Parliament Budget Session: गौरतलब है कि बीते कई महीनों से पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल (LAC) पर लगातार तनातनी जारी है। इस बीच कई बार भारत और चीनी सेनाओं के बीच खूनी संघर्ष भी हो चुका है।

Donald Trump: अमेरिका(America) ने अपने इस कदम में चीन(China) को सख्त संदेश देने की कोशिश की है। बता दें ट्रंप के कार्यकाल के आखिरी दिनों में उठाए गए इस कदम से चीन को बड़ा झटका लगा है।

India China Border Tension: पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में भारत (India) और चीन (China) के बीच जब से तनाव शुरू हुआ है, तभी से ही चीनी सेना (Chinese Army) ने पैंगोंग झील (Pangong Lake) के इलाके पर नजर गढ़ाए जा रहा है।

India-China: लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को हल करने के लिए दोनों देशों के बीच अबतक 6 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन फिलहाल सभी बैठक बिना नतीजे के समाप्त हुई है। LAC पर हालत सामान्य नहीं हैं और चीन इस मामले पर कुछ ज्यादा ही अकड़ दिखाने की कोशिश कर रहा है। LAC पर तनातनी के बीच भारत ने ब्रह्मोस, निर्भय और आकाश मिसाइल की अग्रिम मोर्चे पर तैनाती कर दी है।

भारत (India) और चीन (China) के बीच सीमा विवाद (Border Dispute) ने गलवान घाटी प्रकरण के बाद एक अलग ही मोड़ ले लिया है।

एक तरफ चीन (China) दुनिया को दिखने के लिए भारत (India) के साथ शांति समझौता करने का नाटक कर रहा है। दूसरी तरफ एलएसी (LAC) पर भारत पर वार भी करता रहता है। चीन की इन्हीं नापाक हरकतों को देखते हुए भारतीय सेना (Indian Army) ने पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में अपना दबदबा बढ़ा लिया है।

बीजिंग(Beijing) की तरफ से भारत पर आरोप लगाया गया कि, शेनपाओ इलाके में भारतीय सेना(Indian Army) ने एलएसी पार की और जब चीनी सेना(PLA) की पेट्रोलिंग पार्टी भारतीय जवानों से बातचीत करने के लिए आगे बढ़ी तो उन्होंने जवाब में वॉर्निंग शॉट किए यानी हवा में गोली चलाई।

चीन से जारी सीमा विवाद (India-China border dispute) के बीच भारतीय सेना (Indian Army) के लिए और देश के रक्षा क्षेत्र के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है।

इस बातचीत में भारतीय पक्ष ने चीनी सेना (पीपुल्स लिबरेशन आर्मी) को 'बहुत साफ' संदेश दिया है कि पूर्वी लद्दाख में पहले की स्थिति बरकरार रखी जाई और उसे इलाके में शांति बहाल करने के लिए सीमा प्रबंधन के संबंध में उन सभी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, जिन पर परस्पर सहमति बनी है।

चीन की नापाक हरकतों को देखकर लग रहा है कि लद्दाख में भारत चीन के बीच विवाद अब और बढ़ सकता है। जिसके चलते LAC पर भारतीय सेना ने अपनी तैयारी बढ़ा दी है।