चुनाव आयोग

राज ठाकरे ने चुनाव आयोग को देश में चुनाव प्रक्रिया में विश्वास बहाल करने के बारे में खत लिखा। उन्होंने लिखा, पिछले कुछ साल में देश में अपनाई गई चुनाव प्रक्रिया और ईवीएम के इस्तेमाल पर कई लोग असंतुष्टि जाहिर कर चुके हैं।

राज ठाकरे ने अपने पत्र में कहा है कि ईवीएम को लेकर कई सवाल खड़े किए जा रहे है। ऐसे में चुनाव प्रणाली में फिर से विश्वास के लिए चुनाव EVM की जगह बैलेट पेपर से कराए जाए।

जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा है कि, वो चुनाव आयोग से अपील करेंगे कि इसी साल के अंत तक राज्य में चुनाव कराए जाए।

चुनाव आयोग ने अपने आयुक्त अशोक लवासा के असहमति नोट को सार्वजनिक करने से स्पष्ट रूप से इन्कार कर दिया है। आयोग ने सूचना के अधिकार कानून के तहत मांगी गई इस जानकारी को देने से मना कर दिया है।

सनी देओल पहली बार चुनाव मैदान में उतरे हैं, उन्होंने गुरदासपुर की सीट से कांग्रेस के सुनील कुमार जाखड़ को 82459 वोटों से हराया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में सनी देओल को 551177 वोट और सुनील कुमार जाखड़ को 474168 वोट मिले थे।

निर्वाचन आयोग की तरफ से जारी बयान के अनुसार, नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 18 जून से शुरू होगी और 25 जून तक चलेगी। नाम वापस लेने की अंतिम तिथि 28 जून होगी। 

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों को बस एक ही दिन शेष है, ऐसे में लोगों से ज्यादा नेताओं की हार्ट-बीट बढ़ गई है। विपक्ष सीधा आरोप ईवीएम पर आरोप लगा रहा है और एकजुटता की कोशिश कर रहा है। तो वहीं एनडीए की एकजुटता दिखाते हुए मंगलवार को अमित शाह ने एनडीए के साथियों को डिनर दिया।

मनीष सिसोदिया ने झांसी में ईवीएम ट्रांसपोर्ट किए जाने को लेकर ट्वीट किया था। अपने इस ट्वीट में मनीष सिसोदिया ने आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया संयोजक विकास योगी के एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा, ''झांसी, मेरठ, गाजीपुर, चंदौली, सारन हर जगह मतगणना केन्द्रों पर मशीनें बदली जा रही हैं, लेकिन चुनाव आयोग और तथाकथित मीडिया मोदी के सामने नतमस्तक, आंखों पर पट्टी बांधे घुटनों के बल बैठा है…जनता ने मोदी के खिलाफ वोट दिया है, उसे मीडिया और चुनाव आयोग मिलकर बदल रहे हैं।''

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरो़ड़ा से मुलाकात के दौरान चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि, अगर ईवीएम को लेकर बार बार शिकायत की जा रही है तो चुनाव आयोग ने कार्रवाई क्यों नहीं की।

उन्होंने कहा कि, ''ईवीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है और चुनाव आयोग की ईवीएम से छेड़छाड़ की अफवाहों को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने चाहिए।''