छठ पूजा

नवंबर का महीना त्योहारों का महीना है। दिवाली के बाद सबको छठ पर्व (Chhath festival) का इंतजार रहता है। ये पूर्वांचल का सबसे बड़ा त्योहार है। इस साल छठ पूजा (Chhath Pooja) 20 नवंबर, शुक्रवार को मनाया जा रहा है।

Chhath Puja 2020: बिहार सहित उत्तर भारत और देश के अलग-अलग हिस्सों में शुक्रवार को लोग छठ पर्व (Chhath Puja) के मौके पर सूर्य भगवान की पूजा अर्चना कर रहे हैं। आस्था के इस महापर्व पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।

Chhath Pooja : इस साल छठ पूजा (Chhath Pooja) 20 नवंबर को पड़ रही है। हर साल छठ का त्योहार शुक्ल पक्ष की छठी तिथि को किया जाता है। इस दिन विशेष रुप से सूर्य देव (Surya Dev) को पूजा जाता है और अर्घ्य दिया जाता है।

Chhath Pooja: छठ पर्व(Chhath Parv सामूहिक रूप मनाया जाता है, ऐसे में सीएम योगी(CM Yogi) ने जनपद स्तर पर समीक्षा करते हुए संक्रमण के नियंत्रण के प्रभावी उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं।

Chhath Pooja: दिवाली के बाद सबको छठ पर्व (Chhath festival) का इंतजार है। इस साल छठ पूजा (Chhath Pooja) 20 नवंबर को पड़ रही है। इस दिन विशेष रुप से सूर्य देव (Surya Dev) को पूजा जाता है और अर्घ्य दिया जाता है।

छठ का महाअनुष्ठान रविवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही संपन्न हो गया।

एक तरफ जहां छठ मैय्या की पूजा के समय सूर्यास्त के बाद सैकड़ों महिलाएं अर्घ्य देती हैं। वहीं, रात में उसी पूजा स्थल पर भक्तों के लिए एक अलग ही झांकी का आयोजन किया गया।

छठ पर्व पर पहला अर्घ्य डूबते सूर्य को दिया जाता है। इस समय जल में दूध डालकर सूर्य की अंतिम किरण को अर्घ्य दिया जाता है। इससे भगवान शिव और सूर्यनारायण की कृपा से उत्तम संतान का महावरदान मिलता है।

दिल्ली के ITO घाट पर दिखा छठ पूजा का मनमोहक नजारा

समस्तीपुर के हसनपुर थाना क्षेत्र के बड़गांव गांव में पुरानी काली मंदिर की दीवार गिर गई। हादसे के वक्त महिलाएं मंदिर के किनारे तालाब में छठ पर्व मना रही थी। दीवार महिलाओं पर गिर गई, जिस कारण दो की मौके पर मौत हो गई।