जम्मू कश्मीर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में आयोजित इस समिट में कहा कि अनुच्छेद 370 को निरस्त करने का निर्णय राजनीतिक रूप से कठिन लग सकता है लेकिन इस फैसले ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों में विकास की नई उम्मीद जगाई है।

ये जम्मू-कश्मीर और वामपंथी उग्रवाद प्रभावित राज्यों की सुरक्षा स्थिति पर सरकार को सुझाव देंगे। बता दें कि के विजय कुमार इससे पहले अविभाजित जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार के पद पर रह चुके हैं।

गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने कहा सुरक्षा बलों के ठोस और समन्वित प्रयासों के कारण पिछले कुछ वर्षों में जम्मू-कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकवादी बेअसर हो गए हैं।

राहुल बजाज ने कहा, "आप अच्छा काम कर रहे हैं उसके बाद भी हम खुले रूप से आपकी आलोचना करें...विश्वास नहीं है कि आप इसकी सराहना करेंगे...हो सकता है कि मैं गलत होऊं।"

पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा की अगुवाई वाले पांच सदस्यीय दल को जम्मू एवं कश्मीर के अधिकारियों ने शनिवार को श्रीनगर से बाहर दूसरे इलाकों में जाने से यह कहकर रोक दिया गया कि वे जिन इलाकों में जाना चाहते हैं

अब मोदी सरकार एक और बड़ा कदम उठाने वाली है और दो केंद्र शासित राज्यों का विलय होने वाला है। दरअसल, दमन एंड दीव और दादर एंड नागर हवेली को एक साथ मिलाकर एक केंद्र शासित राज्य बनाने को योजना चल रही है।

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की शह पर एक बार फिर पुलवामा जैसा हमला करने की तैयारी थी। आतंकी एक बार फिर पुलवामा जैसा भीषण हमला करने की फिराक में थे। आतंकियों ने सेना के काफिले को निशाना बनाने के लिए अनंतनाग में आईईडी बिछा दी थी।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर के मामले में आज बड़ा बयान दिया। उन्होंने कश्मीर में स्थितियां सामान्य होने के प्रमाण दिए। शाह ने साफ किया कि जम्मू-कश्मीर के हालात अब सामान्य हो गए हैं।

यह रोबो आर्मी आतंकियों के गुप्त ठिकानों को ढुंढने के साथ ही उसे तबाह भी करेंगे। रोबो आर्मी को भारतीय सेना एक महीने के अंदर कश्मीर में तैनात कर देगी।

कश्मीर में इस बार बड़े ऑपरेशन की तैयारी है। आतंकियों को नेस्तनाबूद करने का कम्प्लीट मिशन तैयार है। सर्दियों में कश्मीर में जमने वाली बर्फ सुरक्षा बलों के लिए इस मिशन का बड़ा सहारा है।