जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने दिल्ली हाईकोर्ट में जवाब दाखिल कर कहा था कि उसे शरजील इमाम के खिलाफ जांच के लिए और समय की जरूरत है।

याचिका में ट्रायल कोर्ट के उस आदेश को भी चुनौती दी गई है, जिसके तहत अदालत ने मामले में चार्जशीट दाखिल करने के लिए दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच को और समय दिया था। पिछले हफ्ते, दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने शरजील इमाम द्वारा भड़काऊ भाषण दिए जाने के मामले में दायर जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) के छात्र नेता उमर खालिद पर गैर कानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम (UAPA) के तहत मामला दर्ज किया गया है। उमर खालिद के अलावा भजनपुरा इलाके के स्थानीय नागरिक दानिश के खिलाफ भी UAPA लगाया गया है।

देशद्रोह मामले में आरोपी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र रहे उमर खालिद का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में उमर खालिद कथित तौर पर कह रहे हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत आने पर सड़क पर उतरना होगा। यह भाषण डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से ठीक पहले 17 फरवरी का बताया जा रहा है।

यह भाषण डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से ठीक पहले 17 फरवरी का बताया जा रहा है। ट्रंप के आने के बाद पूर्वोत्तर दिल्ली में दंगे भड़क गए थे। इस वीडियो के सामने आने के बाद अब उमर खालिद दिल्ली पुलिस के निशाने पर आ सकते हैं।

जामिया मिलिया इस्लामिया और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया है। नाराज छात्रों का यह प्रदर्शन उत्तर पूर्वी दिल्ली में हो रही हिंसा को लेकर था।

शरजील को इस मामले से जुड़े होने को लेकर सोमवार को गिरफ्तार किया गया और एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। उसकी रिमांड अवधि खत्म होने के बाद उसे मंगलवार को अदालत में पेश किया गया। दिल्ली पुलिस ने मामले में दायर आरोप-पत्र में उसे लोगों को उकसाने के लिए नामजद किया है।

पूर्व गृह मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम गुरुवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दों पर संबोधित करेंगे।

निशंक ने कहा कि जेएनयू प्रशासन ने बैठक में बनी सहमति के आधार पर लिए गए फैसलों के बारे में विद्यार्थियों को सूचित कर दिया था। ऐसे में फीस का मुद्दा अब खत्म हो चुका है, क्योंकि विद्यार्थियों की प्रमुख मांग मान ली गई है।

दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में 5 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस ने जेएनयू हिंसा में शामिल नकाबपोश लड़की की पहचान कर ली है।