जैश-ए-मोहम्मद

J&K: जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में डीडीसी के चुनाव के लिए छठे दौर का मतदान रविवार को हो रहा था। इस सब के बीच वहां हो रहे मतदान को प्रभावित करने के लिए पाकिस्तान समर्थित आतंकियों (Pakistani Terrorist) ने कोशिश तो शुरू की लेकिन वह ऐसा करने में कामयाब नहीं हो सके।

Nagrota case: जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) से एक और आतंकी पकड़ा (Terrorist Arrested) गया है। ये आतंकी जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा है। पकड़ा गया आतंकी त्राल का रहने वाला बताया जा रहा है।

Jammu Kashmir: दरअसल जम्मू और कश्मीर में होने वाले जिला विकास परिषदों (DDC) के चुनाव ने भी आतंकवादियों और पाकिस्तान(Pakistan) को परेशान किया हुआ है। चुनावों से पहले ही नामांकन और जनता की भागीदारी बड़े पैमाने पर देखी गई।

Pulwama type Attack Averted in Jammu Kashmir: आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद(Jaish-e-Mohammed) के आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने पर सेना(Indian Army) और CRPF के साथ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अवंतिपोरा(Awantipora) में गाडीखाल गांव के जंगलों के पास एक नर्सरी क्षेत्र की संयुक्त तलाशी ली।

आतंकियों के दिल्ली में घुसने के इनपुट्स के बाद दिल्ली पुलिस समेत तमाम सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं। वहीं बॉर्डरों को सील कर दिया गया है। जगह-जगह पिकेट लगाकर सघन चेकिंग अभियान शुरू कर दिया गया। साथ ही बस अड्डे, रेलवे स्टेशन व बाजारों में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

पाकिस्तान के पेशावर आर्मी स्कूल में हुए आतंकी हमले के मुख्य आरोपी से जुड़ा बड़ा खुलासा हुआ है। ताजा रिपोर्ट और सूत्रों के मुताबिक टॉप पाकिस्तान तालिबान लीडर एहसानुल्लाह एहसान को इस्लामाबाद में ट्रेस किया गया है।

नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना पर हमले को अंजाम देने के लिए आतंकियों के करीब 50 लॉन्चिंग पैड तैयार किए हैं।

पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने कश्मीर में अस्थिरता और आतंकवाद फैलाने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। जैश और लश्कर इन सर्दियों में भारत में बड़े आतंकी हमले की तैयारी कर रहे हैं। जैश ने बहावलपुर के अपने हेडक्वार्टर में इस मकसद से आतंकियों की एक बैठक बुलाई है। भारतीय खुफिया सूत्रों ने जैश की पूरी साजिश बेनकाब कर दी है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने आतंकवाद पर अपनी सालाना रिपोर्ट में यह बात कही है कि वहां अब भी आतंकियों की भर्ती हो रही है और वे फंडिंग जुटा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर रोक लगाने में असफल रहा है।

सुरक्षा एजेंसियों ने जम्मू-कश्मीर और उसके आस-पास के इलाकों में स्थित सैन्य प्रतिष्ठानों पर आत्मघाती हमले का अलर्ट जारी किया है। जानकारी के अनुसार, जैश-ए-मोहम्मद के 8-10 आतंकी जम्मू-कश्मीर और उसके आस-पास स्थित भारतीय वायुसेना के ठिकानों पर आत्मघाती हमला कर सकते हैं।