जैश-ए-मोहम्मद

पाकिस्तान ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन आतंकियों को दहशतगर्द संगठन के लिए फंडिंग जुटाने के आरोप में अरेस्ट किया गया है। दुनिया भर से टेरर फाइनैंसिंग पर रोक लगाने के दबाव के चलते पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है।

अमेरिका के स्थाई प्रतिनिधि जोनाथन कोहेन ने सोमवार को परिषद को बताया, "अजहर को इस सूची में शामिल किया जाना दिखाता है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आतंकवादियों को उनके कृत्यों के लिए जवाबदेह ठहरा सकता है और ठहराएगा।"

पुलिस सूत्रों ने कहा, "मारे गए तीन आतंकवादियों की शिनाख्त नसीर पंडित और उमर मीर (दोनों स्थानीय) और एक पाकिस्तानी खालिद भाई के रूप में हुई। खालिद जेईएम का शीर्ष कमांडर था और 2017 में लेथपोरा में सीआरपीएफ शिविर पर हुए हमले का मास्टरमाइंड था जिसमें पांच जवान शहीद हो गए थे।"

स्पेशल सेल की टीम को जैश-ए-मोहम्मद आतंकी अब्दुल मजीद बाबा की तलाश थी। आतंकी अब्दुल माजिद जम्मू-कश्मीर के सोपोर जिले का रहने वाला है। आतंकी पर 2 लाख रुपये का ईनाम घोषित है।

चीन ने बुधवार को कहा कि वह पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के प्रमुख मसूद अजहर को काली सूची में डालने के मुद्दे पर कड़ी परिश्रम कर रहा है। इसके साथ ही चीन ने अमेरिका को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में खुद का मसौदा प्रस्ताव पेश करने को लेकर एक बार फिर चेतावनी दी है।

दिल्ली पुलिस ने श्रीनगर से जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी को गिरफ्तार कर लिया। एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि आतंकवादी पर दो लाख रुपये का इनाम था। स्पेशल सेल की सूचना पर जैश के सदस्य फैयाज अहमद लोन को शनिवार को गिरफ्तार किया गया।

पुलवामा हमले के गुनहगार और आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को राष्ट्रीय लोक दल के विधायक हाजी सुभान ने ‘साहब’ कहकर संबोधित किया है। बिहार के किशनगंज में एक जनसभा में आरजेडी विधायक का यह बयान सामने आया। इस दौरान मंच पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव भी मौजूद थे। साथ ही विधायक हाजी सुभान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी सवाल उठाए।

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर अमेरिका और चीन आमने-सामने आ गए हैं। जहां अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और भारत समेत कई देश आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादियों की सूची में शामिल कराने की सभी कोशिशें कर रहे हैं, तो चीन और पाकिस्तान उसको बचाने में जुटे हुए हैं।

पुलवामा आतंकी हमले के जवाब में भारत की ओर से की गई एयरस्ट्राइक में पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित जैश-ए-मोहम्मद के कई ठिकाने तबाह हुए।  26 फरवरी को हुई इस एयरस्ट्राइक के सबूतों पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे थे। इन सवालों के बीच एक अमेरिकी कार्यकर्ता ने वीडियो ट्वीट कर दावा किया है कि बालाकोट में की गई एयरस्ट्राइक में करीब 200 से अधिक आतंकी मारे गए थे। 

अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने पर चीन का विरोध क्षेत्रीय स्थिरता पर अमेरिका के साथ इसके पारस्परिक लक्ष्य के विपरीत है।