टीआरएस

यह घटना सूबे के कोमाराम भीम आसिफाबाद जिले के सिरपुर कागजनगर इलाके की है।

कांग्रेस को इस बार तगड़ा झटका तेलंगाना में भी लगा है। कांग्रेस के कुल 18 विधायकों में से 12 विधायक जल्द ही मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की पार्टी टीआरएस में विलय की घोषणा कर सकते हैं। जिसे लेकर उन्होंने तेलंगाना विधानसभा के स्पीकर से मुलाकात की।

इन सीटों पर उपचुनाव कोमाटिरेड्डी राजगोपाल रेड्डी, पी. नरेंद्र रेड्डी और कोंडा मुरलीधर राव के पद छोड़ने की वजह से हुए, जिनका कार्यकाल चार जनवरी, 2022 को समाप्त होना था।

तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) तेलंगाना में लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी। पार्टी सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। टीडीपी के कई शीर्ष नेता पार्टी छोड़कर तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में शामिल हो गए हैं और बाकी नेता चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं हैं। समझा जाता है कि पार्टी की तेलंगाना इकाई ने अगले महीने होने वाले चुनाव में उम्मीदवार न उतारने का निर्णय लिया है।

तेलंगाना में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), आंध्र प्रदेश में मुख्य विपक्षी दल वाईएसआर कांग्रेस और ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) की 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजों के ऐलान के बाद केंद्र सरकार के गठन में खास भूमिका हो सकती है। यह नतीजा सीवोटर-आईएएनएस के एक सर्वेक्षण में उभरकर सामने आया है। 

नई दिल्ली। तेलंगाना के मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति सुप्रीमो चंद्रशेखर राव के सुर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के लिए...

नई दिल्ली। तेलंगाना में इस महीने हुए विधानसभा चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) का भारी बहुमत के साथ सत्ता...

हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री व तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव ने शुक्रवार को अपने बेटे के.टी....

हैदराबाद। तेलंगाना के गौरव के नाम पर और अपनी कल्याणकारी योजनाओं के साथ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) मंगलवार को विधानसभा...

नई दिल्ली। तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति जीत की राह पर नजर आ रही है। शुरुआती रुझानों में पार्टी ने...