टेस्ट क्रिकेट

विकेटकीपर बल्लेबाज ने आगे कहा, " जब आप टीम में अपनी वापसी के दावा पेश करते हैं तो आपके पिछले प्रदर्शन को देखा जाता है। मुझे लगता है कि मेरा पिछला प्रदर्शन अच्छा रहा है। ऐसे में मैं उम्मीद कर रहा हूं वह इस पर नजर रखेंगे और मुझे टेस्ट टीम में शामिल करेंगे।"

आईसीसी की मुख्य कार्यकारी समिति (सीईसी) ने अनिल कुंबले की नेतृत्व वाली क्रिकेट समिति की सिफारिशों को कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने और खिलाड़ियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मंजूरी दी है।

बिलिंग्स ने कहा कि वह विश्व कप से पहले आयरलैंड दौरे के लिए इंग्लैंड की वनडे टीम में चुने गए थे लेकिन इसके बाद चोटिल हो गए। वह अब इंग्लैंड की टीम में जोए डेनले और मोइन अली से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।

मैक्कलम 2016 तक सभी प्रारुपों में न्यूजीलैंड टीम के कप्तान थे। विलियमसन ने बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल के साथ इंस्टाग्राम पर लाइव बातचीत के दौरान यह बात कही।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने कहा है कि टेस्ट क्रिकेट में सलामी बल्लेबाजी की परिभाषा को बदलने वाले वीरेंद्र सहवाग नहीं थे बल्कि शाहिद अफरीदी थे

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक गैटिंग ने मंगलवार को कहा कि पांच दिन के टेस्ट मैच में नतीजा आने की संभावनाएं ज्यादा हैं। गैटिंग ने इस बयान से चार दिन के टेस्ट मैच की खिलाफत की है

आस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर टेस्ट क्रिकेट में वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा का एक पारी में सबसे ज्यादा रनों का रिकॉर्ड तोड़ने के करीब पहुंच गए थे, लेकिन कप्तान टिम पेन द्वारा पारी घोषित किए जाने का कारण वार्नर यह इतिहास रचने से चूक गए।

वार्नर के अलावा टेस्ट मैचों में डॉन ब्रैडमैन (334, 304), आरबी सिम्पसन (311), आरएम कूपर (307), मार्क टेलर (334 नाबाद), मैथ्यू हेडन (380), माइकल क्लार्क (329 नाबाद) ने तिहरे शतक लगाए हैं।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक एशेज सीरीज के अंतिम दो टेस्ट मैचों में पारी की शुरुआत करने वाले जोए डेनले नंबर तीन पर बल्लेबाजी करेंगे। कप्तान रूट चौथे और ओली पोप अपने तीसरे टेस्ट मैच में छठे नंबर पर खेलेंगे।

आज से 29 साल पहले 16 साल के सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट के साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया था। उस समय खेल के इस सबसे मुश्किल प्रारूप में सचिन पहली पारी में पाकिस्तान के खिलाफ सिर्फ 15 रन ही बना पाए थे। लेकिन इसके बाद सचिन ने जो सफर शुरू किया वो पूरे विश्व की आंखों में छाया हुआ है और वही 16 साल का मासूम आज क्रिकेट का भगवान कहा जाने लगा है।