ट्रंप

ट्रंप के दावों का समर्थन करने के लिए बहुत कम सबूत हैं, लेकिन वह लंबे समय से मेल के माध्यम से वोटिंग करने के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

पिछले हफ्ते एनबीसी न्यूज/वॉल स्ट्रीट जर्नल के सर्वेक्षण में 44 फीसदी मतदाताओं ने बिडेन का समर्थन किया जबकि 46 फीसदी ने उन्हें नकारात्मक रूप से देखा।

दुनियाभर में इस बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका हुआ है जहां संक्रमण के 22 लाख से अधिक मामले हैं और 1,19,000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।

ट्रंप ने कहा कि दंगा, लूटपाट, बर्बरता, हमले और संपत्ति के विनाश को रोकने के लिए सभी उपलब्ध संघीय संसाधनों और सेना को जुटाएंगे और कानून का पालन करने वाले अमेरिकियों के अधिकारों की रक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि हम उन दंगों और अराजकता को समाप्त कर रहे हैं जो पूरे देश में फैले हुए हैं।

इस वर्ष के जी7 शिखर सम्मेलन का समय, स्थान और प्रारूप लगातार बदल रहा है। पहले, व्हाइट हाउस ने मार्च में कहा कि शिखर सम्मेलन, मूल रूप से जून में कैंप डेविड में होगा।

अब तक अमेरिकी सरकार के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने जनवरी 2021 तक कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध होनी की बात कही है। ट्रंप ने कहा कि उनका मानना है देश के पास जल्द ही वैक्सीन होगी।

राष्ट्रपति ट्रंप ने काम पर वापस आने के लिए आतुर लोगों का जिक्र करते हुए कहा, "हमारे राष्ट्र के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए हमारी अर्थव्यवस्था का स्वास्थ्य सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है, ये लक्ष्य मिलकर काम करते हैं।"

अमेरिका ने कोविड-19 से पहले भी चीन के खिलाफ व्यापार पाबंदी लगाने की पूरी कोशिश की। अब वैश्विक मुसीबत की घड़ी में भी ट्रंप चीन के साथ उलझने से बाज नहीं आ रहे हैं।

गौरतलब है कि 25 अप्रैल, 1945 को एल्बे डे कहा जाता है। इस दिन सोवियत और अमेरिकी सैनिक जर्मनी में तोर्गाऊ के पास एल्बे नदी पर मिले थे। इसे यूरोप में द्वितीय विश्व युद्ध के अंत की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम माना जाता है।

हले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उनके देश ने कोरोनावायरस की महामारी से लड़ने के लिए हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की 2.9 करोड़ खुराक खरीदी है, जिसमें भारत की बहुत बड़ी हिस्सेदारी है।