डब्ल्यूएचओ

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार, दुनियाभर में कोविड-19 मामलों की कुल संख्या 95 लाख हो गई है, जबकि इससे होने वाली मौतों की संख्या 488,000 से अधिक हो गई हैं।

भारत में कोरोनावायरस (कोविड-19) मामलों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। देश में सोमवार को कोरोना के मामलों की संख्या 4,25,282 तक पहुंच गई है और पिछले 24 घंटों के दौरान 14,821 नए मामले दर्ज किए गए हैं।

इस समय पूरी दुनिया में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक राहत की खबर दी है। डब्यूएचओ का कहना है कि इस साल के अंत से पहले कोविड-19 की वैक्सीन उपलब्ध होने की उम्मीद है।

एक तरफ विश्व में कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे है और इस महामारी से होने वाली मौत के आंकड़े में भी बढ़ोतरी जारी है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्यूएचओ ने एक बार फिर कोरोना वायरस के इलाज के लिए हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन यानी HCQ के सॉलिडैरिटी ट्रायल को बंद कर दिया है।

कोरोनावायरस के संक्रमण से जहां पूरी दुनिया त्राहिमाम कर रही है वहीं इसको लेकर कई और दावे किए जा रहे हैं। कोई कह रहा है कि यह वायरस चीन के लैब से फैला तो कोई कह रहा है कि इसके फैलने में सबसे बड़ा हाथ चीन के मांस के बाजार का है तो वहीं कई वैज्ञानिक इस बात का भी दावा कर रहे हैं कि इसका फैलाव प्रकृति प्रदत्त है।

दिल्ली कांग्रेस के नेता अजय माकन ने कहा,"आंकड़ों को कम रखने के लिए, सरकार के इस चाल से दिल्ली में मामलों में वृद्धि हो रही है।"

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मास्क पहनने पर नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। नई गाइडलाइंस में कहा गया है कि लोगों को उन जगहों पर मास्क पहनना चाहिए जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किया जा सकता।

इससे पहले डब्ल्यूएचओ ने कोविड-19 के प्रायोगिक उपचार में मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के वैश्विक परीक्षण पर अस्थायी रूप से रोक लगाई थी।

पूरा विश्व इस समय कोरोना से जंग लग रहा है। इस घातक महामारी से मरने वाले आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इसके अलावा अब कांगो में इबोला वायरस ने दस्तक दे दी है। स्थानीय अधिकारियों के अलावा इसकी डब्ल्यूएचओ ने भी पुष्टि की है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने वर्ष 2020 में वर्ल्ड नो टोबेको डे (विश्व तंबाकू निषेध दिवस) की थीम 'युवाओं को तंबाकू इंडस्ट्री के हथकंडे से बचाना और उन्हें तंबाकू और निकोटिन के इस्तेमाल से रोकना" रखा है। इस दौरान युवा वर्ग को किसी भी तरह के तम्बाकू का उपयोग करने से हतोत्साहित करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम पर जोर दिया जाएगा।